Suchnaji

Coal India Bonus: दशहरा से पहले कर्मचारियों को मिला 85 हजार दिवाली का तोहफा

Coal India Bonus: दशहरा से पहले कर्मचारियों को मिला 85 हजार दिवाली का तोहफा
  • एसईसीएल द्वारा कर्मियों को दिया गया 85,000 का बोनस, कुल 278 करोड़ कर्मियों के खाते में पहुंचे।\

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। कोल इंडिया (Coal India) के कर्मचारियों में भी बोनस की राशि डाल दी गई है। 85 हजार रुपए बोनस मिलते ही चेहरा खिल उठा। साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (South Eastern Coalfields Limited) – एसईसीएल ने दशहरे से पहले अपने कर्मचारियों को दिवाली का तोहफा दिया है।

CG Election 2023: अपनी गुगली के लिए फेमस क्रिकेटर हरभजन सिंह छत्तीसगढ़ में करेंगे चुनावी बल्लेबाजी

AD DESCRIPTION

कंपनी ने प्रत्येक कर्मी को 85,000 रुपए के बोनस (परफॉर्मेंस लिंक्ड रिवार्ड (Performance Linked Reward)) का भुगतान किया है। कंपनी द्वारा मुख्यालय एवं विभिन्न संचालन क्षेत्रों में कार्यरत कर्मियों के खाते में कुल 278 करोड़ की राशि पहुंचाई गई है। पिछले वर्ष एसईसीएल (SECL) द्वारा कर्मियों को 76,500 रुपए के बोनस का भुगतान किया गया था और इस प्रकार इस वर्ष के बोनस में 11% की वृद्धि हुई है।

SAIL Bonus Breaking News: नाराजगी मिटाने कर्मचारियों के खाते में बोनस आना शुरू, ट्रेनीज़ को मिली ये रकम

वर्ष 2010 में कर्मियों को बोनस के रूप में 17,000 रुपए मिले थे और पिछले 12 वर्षों में कर्मचारियों के बोनस में 5 गुना बढ़ोतरी हुई है। अगर पूरे कोल इण्डिया को देखा जाए तो यहाँ दो लाख 17 हजार 429 कर्मचारी कार्यरत हैं। इस प्रकार इन कर्मचारियों के मध्य लगभग 1800 करोड़ से अधिक की राशि का वितरण होगा।

Super Exclusive News: सेल Bonus तय, नियमित कर्मचारियों को 23 हजार और ट्रेनीज को 18063 रुपए बोनस शुक्रवार शाम तक आएगा खाते में

कोल इंडिया (CIL) एवं अनुषांगिक कंपनियों सहित सिंगरेनी कोलियरीज कंपनी लिमिटेड (Singareni Collieries Company Limited) (SCCL) के कामगारों का बोनस तय करने हेतु नई दिल्ली में हाल ही में बैठक आहूत की गई थी जिसमें कोल इण्डिया प्रबंधन (Coal India Management) व यूनियन प्रतिनिधि उपस्थित रहे थे। दिवाली से पहले बोनस पाकर सभी कर्मीगण अत्यंत हर्षित नज़र आए और बोनस के समयोचित भुगतान के लिए उनके द्वारा प्रबंधन को धन्यवाद दिया गया।

NMDC कार्पोरेट आफिस में धमक पड़े केंद्रीय सतर्कता आयोग के सचिव, पढ़िए हुआ क्या…