Suchnaji

कोल इंडिया न्यूज: SECL में पहली बार XLRI जमशेदपुर के साथ श्रम कानून पर खास इवेंट

कोल इंडिया न्यूज: SECL में पहली बार XLRI जमशेदपुर के साथ श्रम कानून पर खास इवेंट
  • सीएमडी डॉ प्रेम सागर मिश्रा ने टेक्निकल कम्पीटेन्स, मैनेजीरियल कम्पीटेन्स, एवं लीगल प्रूडेंस पर दिया ज़ोर।
  • निदेशक (कार्मिक) बिरंची दास ने बदलते कॉर्पोरेट परिदृश्य में नॉलेज अपडेशन के महत्व पर दिया बल।

सूचनाजी न्यूज, बिलासपुर। कोल इंडिया के साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड-एसईसीएल (Coal India’s South Eastern Coalfields Limited-SECL) में कार्मिक क्षेत्र में क्षमता निर्माण के उद्देश्य से अंतर्राष्ट्रीय एचआर दिवस के अवसर पर बड़ा फैसला लिया गया है। एसईसीएल इन्दिरा विहार स्थित प्रबंधन विकास संस्थान (MDI) में श्रम कानून विषय पर 6-दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरुआत हुई। यह वर्कशॉप ज़ेवियर लेबर रिलेशन्स इंस्टीट्यूट (XLRI) जमशेदपुर (Workshop Xavier Labor Relations Institute (XLRI) Jamshedpur) के जाने-माने प्रोफेसर एवं श्रम कानून विशेषज्ञ डॉ प्रमोद कुमार पाढ़ी द्वारा ली जा रही है।

ये खबर भी पढ़ें : Bhilai Steel Plant को मिला AI इनोवेशन के लिए Productivity Excellence Award 2024

AD DESCRIPTION

कार्यक्रम का उदघाटन सीएमडी डॉ प्रेम सागर मिश्रा द्वारा निदेशक (कार्मिक) श्री बिरंची दास, एक्सएलआरआई फ़ैकल्टी डॉ प्रमोद कुमार पाढ़ी एवं अन्य अधिकारियों की उपस्थिति में किया गया।

अपने उद्बोधन में सीएमडी डॉ प्रेम सागर मिश्रा ने कहा कि एक अच्छे मैनेजर के पास टेक्निकल कम्पीटेन्स, मैनेजीरियल कम्पीटेन्स, एवं लीगल प्रूडेंस होना बहुत ज़रूरी है और तभी हम अपने कार्यक्षेत्र में सफलता प्राप्त कर सकते हैं। उन्होने एसईसीएल में कर्मियों के कौशल विकास को बढ़ावा देने के उद्देश्य से शुरू की गईं विभिन्न पहलों जैसे मिशन नचिकेता, अभिमन्यु ई-मैगजीन आदि के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि इन पहलों के माध्यम से एसईसीएल में हमेशा कुछ नया करने एवं कुछ नया सीखने की संस्कृति को बल मिला है।

ये खबर भी पढ़ें : इम्प्लाइज पेंशन स्कीम 1995: हायर पेंशन कैलकुलेशन पर बड़ी खबर, प्रो-रेटा और 60 माह के औसत पर बोला EPFO

निदेशक (कार्मिक) बिरंची दास ने कहा कि कार्मिक क्षेत्र में कार्यरत अधिकारियों के लिए श्रम एवं औद्योगिक संबंध से जुड़े कानून एवं प्रावधानों की सही जानकारी होना एवं किस स्थिति में क्या नियम लागू होना चाहिये इसके बारे में पता होना बेहद अहम है। मेरा विश्वास है कि यह वर्कशॉप श्रम कानून के आपके ज्ञान में वृद्धि करेगी एवं भविष्य की चुनौतियों के लिए आपको तैयार करेगी।

ये खबर भी पढ़ें : Bhilai Township: बिजली बिल हाफ का लाभ सितंबर से जून 2024 तक मिलेगा उपभोक्ता को, BMS-प्रबंधन के बीच बड़ी बैठक

श्रम कानून एवं प्रबंधन के गुर सिखाए जाएंगे

एसईसीएल में अपनी तरह के इस पहले प्रशिक्षण कार्यक्रम में ज़ेवियर लेबर रिलेशन्स इंस्टीट्यूट (XLRI) जमशेदपुर के जाने-माने प्रोफेसर एवं श्रम कानून विशेषज्ञ डॉ प्रमोद कुमार पाढ़ी द्वारा प्रतिभागियों को श्रम कानून एवं प्रबंधन के गुर सिखाए जाएंगे।

ये खबर भी पढ़ें : Bhilai Steel Plant: सेक्टर 9 हॉस्पिटल में डॉक्टरों की तरह रिटायर पैरामेडिकल स्टाफ की भी की जाए संविदा नियुक्ति

डॉ पाढ़ी के पास मानव संसाधन एवं श्रम कानून के विषय को पढ़ाने का लगभग 22 सालों से अधिक का अनुभव है एवं उनकी गिनती मानव-संसाधन विषय के जाने-माने विशेषज्ञों में होती है। डॉ पाढ़ी द्वारा इस विषय पर 8 पुस्तकें लिखी गयी हैं और उनके 25 से ज़्यादा आलेख विभिन्न राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय शोध पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए हैं।

ये खबर भी पढ़ें : राउरकेला स्टील प्लांट से बड़ी खबर: CISF को मिली 6 बोलेरो और 5 बुलेट, सिक्योरिटी अब और टाइट

प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र दिया जाएगा

इस वर्कशॉप में एसईसीएल मुख्यालय एवं विभिन्न संचालन क्षेत्रों से कार्मिक संवर्ग के लगभग 30 अधिकारी भाग ले रहे हैं एवं सफलतापूर्वक प्रशिक्षण उपरांत सभी प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र दिया जाएगा।

ये खबर भी पढ़ें : Steel Authority of India Limited  में WoW नीति लांच, कार्मिक कहीं से भी कर सकते हैं काम