Suchnaji

Gratuity Latest News: ग्रेच्युटी बनती है 32 लाख तक, 6 से 8 लाख तक नुकसान, पढ़िए डिटेल

Gratuity Latest News: ग्रेच्युटी बनती है 32 लाख तक, 6 से 8 लाख तक नुकसान, पढ़िए डिटेल

अलग-अलग सेवा काल के अनुसार आखिरी बेसिक+डीए से गणना करने पर लगभग 28 से 32 लाख रुपए बनता है।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। Gratuity Latest News: स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (Steel Authority of India Limited) से ग्रेच्युटी (Gratuity) को लेकर बड़ी खबर आ रही है। सेल (SAIL) की यूनिट भिलाई स्टील प्लांट (Bhilai Steel Plant) के कर्मचारी और अधिकारी ग्रेच्युटी को लेकर इस वक्त काफी तनाव में हैं।

कुछ सेवा वृत्त कर्मचारी ग्रेच्युटी क्लेम के सम्बन्ध में समुचित जानकारी के अभाव में भटक रहे हैं। ग्रेच्युटी से जुड़ी समस्याओं के समाधान के लिए भिलाई स्टील प्लांट की पूर्व मान्यता प्राप्त यूनियन सीटू कार्यालय में हेल्प सेंटर खोला गया है, जहां यूनियन के पदाधिकारी लोगों की मदद कर रहे हैं। सवालों का जवाब दे रहे हैं।

AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें : Modi सरकार बनते ही Pension Ministry हरकत में, पेंशनभोगियों के लिए बड़े फैसले

ग्रेच्युटी के लिए पूछे जा रहे अधिकतर ये सवाल

सवाल: ग्रेच्युटी यदि 31 अक्टूबर 2021 के बेसिक+डीए के आधार पर गणना कर 22-23 लाख मिला है, तो आखिरी बेसिक+डीए पर कितना बनेगा?

जवाब: सीटू के महासचिव जेपी त्रिवेदी के मुताबिक यूनियन के पदाधिकारी सभी सवालों का जवाब दे रहे हैं।। इस सवाल का जवाब यह है कि अलग-अलग सेवा काल के अनुसार आखिरी बेसिक+डीए से गणना करने पर लगभग 28 से 32 लाख रुपए बनता है।

सवाल: आखिरी बेसिक+डीए के अनुसार यदि ग्रेच्युटी 20 लाख दिया है तो उन्हें कितना नुकसान हो रहा है?

जवाब: सेवाकाल की अवधि के अनुसार लगभग 6-8 लाख का नुकसान हो रहा है।

सवाल: क्लेम करने के लिए क्या डाक्यूमेंट्स लाना है?

जवाब: आखिरी भुगतान पर्ची ( ग्रेच्युटी शीट) अंतिम पे स्लिप,
चार सेट में फोटो कापी।

ये खबर भी पढ़ें : इस्पात मंत्री HD Kumar Swamy ने संभाला पदभार, SAIL चेयरमैन-डायरेक्टर पहुंचेश्रम एवं रोजगार मंत्री ने संभाली कमान

Gratuity (ग्रेच्युटी) क्या है?

ग्रेच्युटी वह राशि है] जो नियोक्ता अपने कर्मचारी को कंपनी को दी जाने वाली सेवाओं के बदले में देता है। हालांकि, केवल उन्हीं कर्मचारियों को ग्रेच्युटी राशि दी जाती है जो कंपनी में पांच साल या उससे अधिक समय से कार्यरत हैं। यह ग्रेच्युटी भुगतान अधिनियम, 1972 द्वारा शासित है।

यदि कर्मचारी किसी दुर्घटना या बीमारी के कारण विकलांग हो जाता है तो उसे पांच साल से पहले ग्रेच्युटी मिल सकती है। ग्रेच्युटी मुख्य रूप से आपके अंतिम वेतन और कंपनी को दी गई सेवा के वर्षों पर निर्भर करती है।

ये खबर भी पढ़ें : EPS 95 पेंशन को लेकर EPFO-सरकार पर भयंकर गुस्साखुद को भिखारी से गैर-गुजरे बोल गए पेंशनभोगी

ग्रेच्युटी के भुगतान के लिए पात्रता मानदंड क्या हैं?

-ग्रेच्युटी प्राप्त करने के लिए, आपको निम्नलिखित पात्रता मानदंडों को पूरा करना होगा।
-आपको सेवानिवृत्ति के लिए पात्र होना चाहिए।
-आपको सेवा से सेवानिवृत्त होना चाहिए।
-आपको कंपनी के साथ पाँच साल की निरंतर नौकरी के बाद इस्तीफा देना चाहिए।
-आपकी मृत्यु की स्थिति में ग्रेच्युटी का भुगतान नामांकित व्यक्ति को या बीमारी या दुर्घटना के कारण अक्षम होने पर आपको किया जाता है।

ये खबर भी पढ़ें : EPS 95 पेंशन: BJP 400 पार की जगह 240 सीट पाईविधानसभा चुनाव में अब 7500 पेंशन की लड़ाई