Suchnaji

Rourkela Steel Plant: लाठीकटा ब्लॉक की मां छला नृत्य मंडली बनी सिनर्जी लोक सांस्कृतिक महोत्सव 2024 की चैंपियन

Rourkela Steel Plant: लाठीकटा ब्लॉक की मां छला नृत्य मंडली बनी सिनर्जी लोक सांस्कृतिक महोत्सव 2024 की चैंपियन
  • सीएसआर पहल के तहत आरएसपी वर्ष 2012-13 से  सिनर्जी लोक सांस्कृतिक महोत्सव का आयोजन कर रहा।

सूचनाजी न्यूज, राउरकेला। सेल, राउरकेला इस्पात संयंत्र (SAIL Rourkela Steel Plant) द्वारा सिविक सेंटर में आयोजित सिनर्जी लोक सांस्कृतिक महोत्सव के फाइनल राउड में लाठीकटा ब्लॉक के बलानी गांव की मां छला नृत्य मंडली लगातार दूसरे वर्ष चैंपियन बनकर उभरी।

AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें : Breaking News: भिलाई स्टील प्लांट में बड़ा हादसा, मजदूर आइसीयू में भर्ती

राउरकेला इस्पात संयंत्र के निदेशक प्रभारी और बोकारो इस्पात संयंत्र के अतिरिक्त प्रभार अतनु भौमिक समापन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित हुए। इस अवसर पर कार्यपालक निदेशक (सामग्री प्रबंधन) सोमनाथ त्रिपाठी, कार्यपालक निदेशक (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवा), डॉ. बी.के.होता, कार्यपालक निदेशक (कार्मिक एवं प्रशासन), तरूण मिश्र, कार्यपालक निदेशक (खान), आलोक वर्मा, मुख्‍य महा प्रबंधक (नगर प्रशासन एवं  सी.एस.आर.), पी.के.स्‍वाई, आर.एस.पी के वरिष्ठ अधिकारी, स्वंय सहायता समूह और राउरकेला और पार्श्वांचल क्षेत्रों के 10 से अधिक ब्लॉकों से प्रतिभागी उपस्थित थे।

ये खबर भी पढ़ें : Bokaro Steel Officers Association चुनाव में देरी पर नाराजगी, अधिकारी पहुंचे ED P&A के पास, अध्यक्ष एके सिंह ये बोले

गौरतलब है कि, इससे पहले ब्लॉक स्तर पर आयोजित जोनल राउंड में लाठीकटा ब्लॉक, नुआगाँव ब्लॉक, बिसरा ब्लॉक और कुआरमुंडा ब्लॉक के विभिन्न गाँवों से 120 मंडलियों यानी तीस-तीस नृत्य मंडलियों ने हिस्सा लिया था। प्रत्येक ब्लॉक से प्रथम, द्वितीय और तृतीय पुरस्कार विजेताओं ने अंतिम खिताब जीतने के लिए फाइनल राउंड में भाग लिया।

ये खबर भी पढ़ें : Big News: केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मिले JCCJ नेता अमित जोगी, रायपुर से दिल्ली तक बढ़ी राजनैतिक अटकलें

अतानु भौमिक ने विजेताओं के साथ-साथ भाग लेने वाली टीमों को कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए बधाई दी। उन्होंने कहा, ‘इस क्षेत्र का एक जिम्मेदार उद्योग होने के नाते, हमें समृद्ध सांस्कृतिक और अनूठी परंपराओं को प्रोत्साहित करने के साथ-साथ संरक्षित करना हमारा कर्तव्य है।

आर.एस.पी. राउरकेला और परिधीय क्षेत्रों के समग्र सामाजिक-आर्थिक विकास में विश्वास रखता है। उन्होंने स्थानीय संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए सी.एस.आर. विभाग के प्रयासों की भी सराहना की।

ये खबर भी पढ़ें : Big Breaking: छत्तीसगढ़ में 22 जनवरी को सार्वजनिक छुट्टी देने की मांग, शासकीय कर्मचारियों ने CM को लिखा लेटर

गण्यमान्यों ने नृत्य प्रतियोगिताओं के विजेताओं को प्रथम, द्वितीय और तृतीय पुरस्कार प्रदान किये। लाठीकटा ब्लॉक के बलानी गाँव की माँ छला नृत्य मंडली, विजेता टीम ने 20,000 रुपये का नकद पुरस्कार और चैंपियन ट्रॉफी जीती। बिसरा ब्लॉक के केंदुटोला गांव के केंदुटोला नृत्‍य मंडली ने दूसरा पुरस्कार जीता जिसमें 17,500 रुपये का नकद पुरस्कार और एक ट्रॉफी शामिल थी।

ये खबर भी पढ़ें : SAIL NJCS बैठक से पहले बैठे 4 यूनियन के नेता, चाहिए 40500 से ज्यादा बोनस, बकाया एरियर

तीसरा पुरस्कार जिसमें 15,000 रुपये का नकद पुरस्कार और एक ट्रॉफी शामिल थी, कुआरमुंडा ब्लॉक के कचारू गाँव के नृत्य समूह ने जीता। इस अवसर पर निर्णायकों को भी सम्मानित किया गया। शेष भाग लेने वाली प्रत्येक मंडली को 5,000 रुपये का सांत्वना पुरस्कार भी दिया गया।

ये खबर भी पढ़ें : EPS 95 हायर पेंशन: नहीं भेजा पेंशनर्स का डाटा, 11 को BSP, 12 को EPFO के खिलाफ बड़ा हंगामा

इससे पहले सुबह तरूण मिश्र ने कार्यक्रम का उद्घाटन किया था। बाद में शाम को पुरस्कार वितरण समारोह में पी.के.स्‍वाईं ने उपस्थित लोगों का स्वागत किया। महा प्रबंधक (सी.एस.आर.) मुनमुन मित्रा ने औपचारिक धन्यवाद ज्ञापित किया। सहायक महा प्रबंधक (सी.एस.आर.), टी.बी.टोप्पो ने कार्यक्रम का संचालन किया, जबकि वरिष्ठ क्षेत्र सहायक (सी.एस.आर.), बी.एक्का ने पुरस्कार समारोह का समन्वय किया।

उल्लेखनीय है कि अपनी सी.एस.आर. पहल के तहत आर.एस.पी. वर्ष 2012-13 से  सिनर्जी लोक सांस्कृतिक महोत्सव का आयोजन कर रहा।

ये खबर भी पढ़ें : Bhilai Township लीज नवीनीकरण मामला अब पहुंचा PM Modi के दरबार