Suchnaji

बकाया एरियर और PRP को लेकर SEFI पहुंचा इस्पात मंत्रालय, SAIL, RINL के अधिकारियों का मामला हल कराने की कवायद

बकाया एरियर और PRP को लेकर SEFI पहुंचा इस्पात मंत्रालय, SAIL, RINL के अधिकारियों का मामला हल कराने की कवायद
  • इस्पात अधिकारियों के लंबित मुद्दों पर राज्यसभा सांसद जीवीएल नरसिम्हा राव, सेफी चेयरमेन नरेन्द्र कुमार बंछोर, सेफी वाइस-चेयरमेन नरेन्द्र सिंह एवं सेफी सह-सचिव केवीडी प्रसाद आदि ने चर्चा की।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। सेफी (SEFI) के पदाधिकारियों ने इस्पात सचिव एनएन सिन्हा, संयुक्त सचिव (इस्पात) अभिजीत नरेन्द्र आदि से इस्पात क्षेत्र के अधिकारियों के अन्य लंबित मुद्दों पर उद्योग भवन नई दिल्ली में विस्तृत चर्चा की। जिसमें मुख्य तौर पर सेल अधिकारियों को 11 माह के पर्क्स के एरियर्स का भुगतान, वित्तीय वर्ष 2018-19 का इंक्रीमेंटल पीआरपी, आरआईएनएल के अधिकारियों के पिछले वर्षों से लंबित प्रमोशन को शीघ्र चालू करना आदि विषयों पर चर्चा की।

SECL संचालन समिति की बैठक: यूनियन नेताओं संग मंथन, CMD बोले-मत कीजिएगा तीन दिवसीय हड़ताल

AD DESCRIPTION

11 माह के पर्क्स की राशि के भुगतान हेतु सेफी चेयरमेन नरेन्द्र कुमार बंछोर ने इस्पात सचिव नागेन्द्र नाथ सिन्हा से विस्तृत चर्चा की। सेफी चेयरमैन एवं बीएसपीओए के अध्यक्ष नरेन्द्र कुमार बंछोर ने संघर्ष पर प्रकाश डालते हुए बताया कि सबसे पहले सेफी ने सेल में 26-11-2008 से 04-10-2009 के 11 माह के पर्क्स की राशि के भुगतान हेतु माननीय कैट के समक्ष केस दायर किया था।

घर, प्लांट और रास्ते के खतरों से बचें, घरवाले कर रहे आपका इंतजार

माननीय कैट ने आदेश क्रमांक ओए/350/00191/2014 दिनांक 15.02.2016 द्वारा सेफी के पक्ष में आदेश दिया था। जिसे सेल प्रबंधन ने कैट के आदेश को उच्च न्यायालय कोलकाता में चुनौती दी थी। 13 सितंबर को सेल की रिट याचिका को कोलकाता हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति तपब्रत चक्रवर्ती की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने खारिज कर दिया।

जिसके फलस्वरूप अधिकारियों को अपने वाजिब हक की राशि मिलने का रास्ता साफ हो गया है। विदित हो कि यह मुद्दा तत्कालीन सेल प्रबंधन के लापरवाही का जीता जागता उदाहरण है।

Rahul Gandhi Live: छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव से पहले बड़ी सौगात, पढ़िए क्या बोल रहे

सरकार के दिशानिर्देश के तहत इस भुगतान को करने के लिए सेल प्रबंधन को अप्रैल 2008 में बोर्ड मीटिंग में प्रस्ताव पारित कर मंत्रालय को प्रेषित करना था परंतु विडम्बना यह है कि उस वक्त सेल का उच्च प्रबंधन एवं मंत्रालय के अधिकारी विदेश यात्रा पर थे।

 Mock Drill: Bhilai Steel Plant में गैस रिसाव, जमीन पर गिर पड़े 4 कर्मी, मचा हड़कंप

इसके कारण उन्होंने सरकारी दिशानिर्देश के तहत दिए गए समय-सीमा के भीतर इस प्रस्ताव को रखने में देरी हुई जबकि उस वक्त सेल के पास हजारों करोड़ रूपये का सरप्लस राशि उपलब्ध थी।

EPS 95 पेंशन: ठहरिए, आपकी राशि नहीं होगी वापस, न ही हट सकेंगे पीछे, चाहिए पेंशन तो फौरन यह अपनाएं

सेल के तत्कालीन उच्च प्रबंधन के लापरवाही की खामियाजा आज भी सेल के अधिकारी भुगत रहे हैं। इस संदर्भ में ज्ञात हो कि इस मुद्दे पर राष्ट्रीय इस्पात निगम लिमिटेड (आरआईएनएल.) ने तत्काल कार्यवाही करते हुए बोर्ड मीटिंग में इस प्रस्ताव को पारित कर अपने अधिकारियों को पूरा लाभ दिलाया। अतः सेल अधिकारियों को भी तदानुसार 11 माह का पर्क्स एरियर्स का भुगतान करवाने का आग्रह किया।

SAIL Wage Revision Dispute:  एनजेसीएस संविधान का उल्लंघन, 8 लाख तक नुकसान, हाईकोर्ट जाने की तैयारी

सेफी पदाधिकारियों ने आर.आई.एन.एल. के अधिकारियों के पिछले वर्षों से लंबित प्रमोशन को शीघ्र चालू करवाने हेतु भी चर्चा की। वर्ष 2019 से आर.आई.एन.एल. के अधिकारियों का प्रमोशन लंबित है।

मुस्कुराइए आप Bhilai Township में हैं: डिफाल्टर ठेकेदारों की अब नहीं गलेगी दाल, चमकेगा घर

आर.आई.एन.एल. प्रबंधन एवं मंत्रालय के आश्वासन के बाद भी प्रमोशन की प्रक्रिया चालू नहीं की गई है। सेफी ने इस्पात सचिव से इस हेतु शीघ्र हस्ताक्षेप करने का आग्रह किया।

इस्पात सचिव के सभागार में इस्पात सचिव एनएन. सिन्हा से इस्पात अधिकारियों के लंबित मुद्दों पर राज्यसभा सांसद जीवीएल नरसिम्हा राव, सेफी चेयरमेन नरेन्द्र कुमार बंछोर, सेफी वाइस-चेयरमेन नरेन्द्र सिंह एवं सेफी सह-सचिव केवीडी प्रसाद आदि ने विस्तृत चर्चा की।

Bhilai Steel Plant सीखा रहा डिफेंसिव ड्राइविंग, ऐसे रोकिए बाइक, कार या मालवाहक का एक्सीडेंट