Suchnaji

छत्तीसगढ़ मंत्रिपरिषद का बड़ा फैसला: 55 साल से अधिक वालों को सरकार कराएगी अयोध्या और काशी दर्शन

छत्तीसगढ़ मंत्रिपरिषद का बड़ा फैसला: 55 साल से अधिक वालों को सरकार कराएगी अयोध्या और काशी दर्शन
  • दुर्ग, रायपुर, रायगढ़ और अंबिकापुर से यात्री ट्रेन में होंगे सवार।

सूचनाजी न्यूज, रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री विष्णु देव साय (CM Vishnu Dev Sai) की अध्यक्षता में मंत्रालय महानदी भवन (Mantralaya Mahanadi Bhawan) में मंत्रिपरिषद की बैठक में कई फैसले लिए गए। उप मुख्यमंत्री विजय शर्मा और अरुण साव भी मौजूद रहे।

AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें : Big Breaking: छत्तीसगढ़ में 22 जनवरी को सार्वजनिक छुट्टी देने की मांग, शासकीय कर्मचारियों ने CM को लिखा लेटर

बैठक में महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए

1.  मंत्रिपरिषद की बैठक में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) द्वारा छत्तीसगढ़वासियों को दी गई गारंटियों में से एक और गारंटी को पूरा करते हुए प्रदेश में रामलला दर्शन (अयोध्या धाम) योजना शुरू करने का महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया।

ये खबर भी पढ़ें : SAIL NJCS बैठक से पहले बैठे 4 यूनियन के नेता, चाहिए 40500 से ज्यादा बोनस, बकाया एरियर

ज्ञातव्य है कि धार्मिक नगरी अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा 22 जनवरी को होने जा रही है। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा प्रदेशवासियों को रामलला के दर्शन कराने हेतु अयोध्या ले जाने की घोषणा की गई है। जिसके परिपालन में रामलला दर्शन योजना शुरू की जा रही है।

इस योजना का क्रियान्वयन छत्तीसगढ़ पर्यटन मण्डल द्वारा तथा बजट पर्यटन विभाग द्वारा उपलब्ध कराया जाएगा।

ये खबर भी पढ़ें : EPS 95 हायर पेंशन: नहीं भेजा पेंशनर्स का डाटा, 11 को BSP, 12 को EPFO के खिलाफ बड़ा हंगामा

इस योजना के तहत हर साल लगभग 20 हजार यात्रियों को श्री रामलला दर्शन हेतु यात्रा पर ले जाया जाएगा।

छत्तीसगढ़ राज्य के मूल निवासी, 18 से 75 आयु वर्ग के जो जिला मेडिकल बोर्ड द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण में सक्षम पाए जाएंगे, उन्हें यात्रा की पात्रता होगी। दिव्यांगजनों के लिए यथा संभव उनके परिवार से कोई एक सदस्य साथ में रहेंगे।

ये खबर भी पढ़ें : Bhilai Township लीज नवीनीकरण मामला अब पहुंचा PM Modi के दरबार

प्रथम चरण में 55 वर्ष से ऊपर के यात्रियों को यह सुविधा उपलब्ध होगी। इसके पश्चात अन्य आयु वर्ग के लोगों को भी यह सुविधा दी जाएगी।

इसके लिए प्रत्येक जिले में कलेक्टर की अध्यक्षता में श्री रामलला दर्शन समिति बनायी जाएगी। प्रत्येक समिति द्वारा अनुपातिक कोटा के अनुसार हितग्राहियों का चयन किया जाएगा।

ये खबर भी पढ़ें : Bhilai Township लीज नवीनीकरण मामला अब पहुंचा PM Modi के दरबार

इस यात्रा की दूरी लगभग 900 किलोमीटर होगी। इसके लिए भारतीय रेल्वे केटरिंग एवं टूरिज्म कार्पोरेशन (आईआरसीटीसी) के साथ छत्तीसगढ़ मण्डल द्वारा एमओयू किया जाएगा।

आईआरसीटीसी द्वारा यात्रा के दौरान यात्रियों को सुरक्षा, स्वास्थ्य, भोजन, स्थलों के दर्शन, स्थानीय परिवहन तथा एस्कार्ट की व्यवस्था की जाएगी।

ये खबर भी पढ़ें : भिलाई स्टील प्लांट के नंदिनी लाइम स्टोन माइंस में लोक कला का मेला

हितग्राहियों को उनके निवास से निर्धारित रेलवे स्टेशन तक लाने एवं वापस ले जाने की व्यवस्था संबंधित जिला कलेक्टर द्वारा की जाएगी। इसके लिए उन्हें बजट उपलब्ध कराया जाएगा।

प्रत्येक जिले से यात्रियों के साथ एक सक्षम शासकीय अधिकारी अथवा एक छोटा दल भेजा जाएगा। यात्री दुर्ग-रायपुर, रायगढ़ एवं अंबिकापुर से रेल द्वारा गन्तव्य स्थल के लिए रवाना होंगे।

ये खबर भी पढ़ें : Bhilai Township: इन सेक्टर एरिया के घरों में नहीं आएगा पानी, BSP करेगा सप्लाई बंद, पढ़िए वजह

यात्रा का मूल गन्तव्य अयोध्या धाम रहेगा। इसके साथ ही वाराणसी में एक दिन का रात्रि विश्राम, काशी विश्वनाथ मंदिर एवं कॉरीडोर तथा गंगा आरती का दर्शन का लाभ भी यात्रियों को मिल सकेगा।

वर्तमान में आईआरसीटीसी द्वारा प्रत्येक सप्ताह में एक ट्रेन उपलब्ध करायी जाएगी। भविष्य में ट्रेन की उपलब्धता अनुसार यात्रियों की संख्या में बढ़ोत्तरी की जा सकेगी।

2. मंत्रिपरिषद की बैठक में छत्तीसगढ़ राज्य के महाधिवक्ता के पद पर प्रफुल्ल भारत की नियुक्ति करने का निर्णय लिया गया।

ये खबर भी पढ़ें : RFID BIG NEWS: बगैर सर्कुलर BSP कर्मचारियों की फोटो खींच रही निजी एजेंसी, गोपनीयता भंग