Suchnaji

BSP के ठेका श्रमिकों को मिले 21000 न्यूनतम वेतन, हड़ताल को लेकर आई ये बात

BSP के ठेका श्रमिकों को मिले 21000 न्यूनतम वेतन, हड़ताल को लेकर आई ये बात
  • मजदूरों को रात्रि भत्ता एवं आवास भत्ता, कैंटीन भत्ता एवं साइकिल भत्ता भी नहीं दिया जाता।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। स्टील ठेका श्रमिक यूनियन इंटक भिलाई (Steel Contract Workers Union INTUC Bhilai) के प्रतिनिधि मंडल ने मजदूरों का मुद्दा उठाया। प्रबंधन के साथ चर्चा की। अध्यक्ष संजय कुमार साहू के नेतृत्व में महाप्रबंधक औद्योगिक संबंध एवं ठेका प्रकोष्ठ जेएन ठाकुर के साथ भिलाई इस्पात संयंत्र में कार्यरत ठेका श्रमिकों के वेतन एवं सुविधाओं में बढ़ोतरी के लिए चर्चा किया गया।

AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें : अनुभव पुरस्कार योजना 2024: पेंशनभोगी ध्यान दें, आपके लिए मौका

ठेका श्रमिकों का हो जल्द वेतन समझौता\

बीएसपी के उत्पादन में अधिकांश कार्य ठेका श्रमिकों द्वारा किया जा रहा है। लेकिन अभी भी 84 महीना बीतने के पश्चात भी ठेका श्रमिकों का वेतन समझौता नहीं हुआ है। वेतन समझौते में 21000 रुपए न्यूनतम वेतन होना चाहिए एवं न्यूनतम वेतन में ए डब्ल्यू ए को जोड़ा जाए।

ये खबर भी पढ़ें : CSR पर छिड़ी बहस, मंत्री बोले-यह दान नहीं, कर्तव्य और जिम्मेदारी है

ठेका श्रमिकों को मिले रात्रि भत्ता एवं अन्य सुविधाएं

संयंत्र के स्थाई प्रवृत्ति के कार्यों को ठेका श्रमिकों से चारों शिफ्ट में कराया जा रहा है। लेकिन उन्हें रात्रि भत्ता एवं आवास भत्ता, कैंटीन भत्ता एवं साइकिल भत्ता भी नहीं दिया जाता। ना ही सोशल सिक्योरिटी के नाम से कुछ सुविधाएं दी जाती है।

ये खबर भी पढ़ें : मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने जैन यूनिटी क्रिकेट लीग सीजन-3 में बल्लेबाजी में आजमाया हाथ

ठेका श्रमिकों को वर्तमान में न्यूनतम वेतन के साथ-साथ एडब्ल्यूए की राशि भी मिलनी चाहिए। ठेका में एडब्ल्यूए की राशि जुड़ी होने के पश्चात भी अधिकांश ठेकेदार ठेका श्रमिकों को एडब्ल्यूए 2300 रुपए प्रतिमाह नहीं देते। एचएसएलटी ठेका श्रमिकों का केवाईसी भी जल्द से जल्द किया जाए।

ये खबर भी पढ़ें : आपका  Fastag होने जा रहे ब्लैक लिस्ट, अब ‘एक वाहन एक फास्टैग

मरोदा-जोरा तराई गेट का किया जाए विस्तारीकरण

बीएसपी में ज्यादातर ठेका श्रमिक चारों शिफ्ट में मरोदा गेट, एवं जोरा तराई गेट एवं 17 नंबर गेट से आते हैं लेकिन शिफ्ट से जाते एवं आते समय काफी भीड़ हो जाती है। मरोदा गेट में रात्रि पाली में 9:00 खोलने से भीड़ काफी हो जाती है, उसे पहले खोला जाए एवं सभी गेटों का विस्तारीकरण किया जाए।
महाप्रबंधक जेएन ठाकुर ने बताया कि 10 लाख का दुर्घटना बीमा जल्द हो जाएगा। प्रक्रिया लगभग पूरी हो चुकी है। मरोदा एवं जोरा तराई गेट का सर्वे करवा कर, सुधार किया जाएगा।

ये खबर भी पढ़ें : मकर महोत्सव 2024: SAIL Rourkela Steel Plant ने जमाया रंग, हर कोई मगन, देखिए फोटो

इंटक यूनियन की मांग पर ठेका पद्धति में भी सुधार किया जा रहा है, जिससे कि ठेका श्रमिकों को उनका पूरा हक मिल सके एवं ठेका श्रमिकों को सभी गेट में आने जाने के सुविधा के लिए उच्च स्तर पर विचार किया जा रहा है। ठेका श्रमिकों का वेतन समझौता एवं अन्य मुद्दे 20 जनवरी के एनजेसीएस की बैठक में हल होने की संभावना है।

ये खबर भी पढ़ें : BSP Safety Drawing-Painting Competition संडे मार्निंग, बच्चों को लेकर सेक्टर 8 पार्क आइए

अध्यक्ष संजय साहू ने कहा की 20 जनवरी की एनजेसीएस की बैठक में सकारात्मक परिणाम नहीं आता है तो स्टील ठेका श्रमिक यूनियन इंटक 29-30 जनवरी की हड़ताल में शामिल होगी। बैठक में वरिष्ठ प्रबंधक रोहित हरित, प्रबंधक निवेश विजयन एवं इंटक यूनियन की ओर से सीपी वर्मा, दीनानाथ सिंह, मनोहर लाल, आर दिनेश, जसवीर सिंह, गुरुदेव साहू ,रिखी राम साहू उपस्थित थे।

ये खबर भी पढ़ें : EPFO ने पेंशनर्स से कही बड़ी बात, पढ़िए EPS 95 हायर पेंशन, एरियर, जमा राशि, BSP का डिटेल