Suchnaji

EPS 95 पेंशन: EPFO और सरकार पर गुस्सा, अब पेंशनर्स यह बोल गए…

EPS 95 पेंशन: EPFO और सरकार पर गुस्सा, अब पेंशनर्स यह बोल गए…

EPS 95 के पेंशनर्स सरकार की निगाहों में लावारिस,अनाथ ही हैं,फ्यूज बल्व ही हैं, जो किसी काम के नहीं।

सूचनाजी न्यूज, छत्तीसगढ़। EPS 95 हायर पेंशन और न्यूनतम पेंशन की मुराद कब पूरी होगी, यह तय नहीं है। पेंशनर्स लगातार इसको लेकर कयास लगा रहे हैं। सरकार की मंशा पर सवाल उठा रहे हैं। तरह-तरह की बातें सामने आ रही है। सोशल मीडिया पर माहौल बना हुआ है।

AD DESCRIPTION

इसी बीच Monish Guha ने फेसबुक पर पोस्ट किया कि गणतंत्र दिवस भी चला गया। अब अगली उम्मीद चुनाव दिवस की घोषणा से पहले…। लगता है हमारे धैर्य की परीक्षा ली जा रही है…। तमाम आशंका जाहिर की जा रही है। EPS 95 पेंशन को लेकर EPFO के एक सदस्य ने लिखा-जो पेंशनरों का काम करेगा। वही देश पर राज करेगा? किस की सरकार?, कैसी सरकार?

पहले भी सरकार आपने चुनी थी। आज की सरकार भी आपने चुनी है। आगे भी आप ही चुनेंगे…। पेंशनरों का कोई माई बाप तो न पहले था न आज है। और लगता है आगे भी नहीं रहेगा। होता तो 2014 से दस साल गुजर गए,फिर भी माई बाप होने का अहसास किसी ने दिलाया हो तो आप ही बताएं।

सच्चाई तो यही है कि EPS 95 के पेंशनर्स सरकार की निगाहों में लावारिस,अनाथ ही हैं,फ्यूज बल्व ही हैं, जो किसी काम के नहीं। आप किसी को भी वोट दें न दें। आपके वोट आपको अनाथ से नाथ नहीं बना सकते…। किस्मत में रोना ही लिखा हो तो कोई बदल नहीं सकता।

आपको अपने आंसू खुद ही पोंछना पड़ेगा…। रोते-रोते आये थे रोते रोते जाएंगे…। जिम्मेदार कोई नहीं, दोष किस्मत का है कि आप ऐसे प्रजातांत्रिक देश में पैदा हुए हैं। जहां बुजुर्ग वरिष्ठ नागरिकों की सुध लेने वाला सिवाय राम के कोई नहीं…।