Suchnaji

भिलाई स्टील प्लांट में जुटे NSPCL, SBPDCL, BPSCL, ISP, BSP, RSP और DSP के एक्सपर्ट, पढ़िए डिटेल

भिलाई स्टील प्लांट में जुटे NSPCL, SBPDCL, BPSCL, ISP, BSP, RSP और DSP के एक्सपर्ट, पढ़िए डिटेल
  • बीएसपी, एनएसपीसीएल, एसबीपीडीसीएल, बीपीएससीएल, आईएसपी, आरएसपी, डीएसपी बीएसपी द्वारा ‘बॉयलरों का कुशल संचालन और रखरखाव’ विषय पर आयोजित कार्यशाला सम्पन्न।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। सेल-भिलाई इस्पात संयंत्र (SAIL Bhilai Steel Plant) के पीबीएस विभाग (PBS Department) द्वारा भिलाई निवास में ‘बॉयलरों के कुशल संचालन और रखरखाव’ पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया।

AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें : EPS 95 हायर पेंशन की न्यूज: जमा होने वाली रकम, एरियर और अंतर राशि का लेटर वायरल, EPFO बोला-कोई गाइडलाइन नहीं

यह कार्यशाला केंद्रीय बॉयलर बोर्ड (उद्योग और आंतरिक व्यापार वर्धन विभाग, वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय, भारत सरकार) द्वारा प्रायोजित तथा राष्ट्रीय उत्पादकता परिषद (उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग, वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय, भारत सरकार के तहत एक स्वायत्त संगठन) द्वारा संचालित है।

ये खबर भी पढ़ें : SAIL SC-ST Employees Federation का कारपोरेट आफिस में डेरा, प्रबंधन ने कहा-आप लोग पहले एक हो जाइए

इस कार्यशाला के मुख्य अतिथि के रूप में बॉयलर के मुख्य निरीक्षक (बॉयलर निरीक्षणालय, छत्तीसगढ़ सरकार)  गुंजन शुक्ला उपस्थित थे। इस अवसर पर विशेष अतिथि के रूप में कार्यपालक निदेषक (वर्क्स) अंजनी कुमार उपस्थित थे।

साथ ही मुख्य महाप्रबंधक प्रभारी (आयरन) तापस दासगुप्ता, मुख्य महाप्रबंधक प्रभारी (सेवाएं) पीके सरकार, क्षेत्रीय निदेशक (एनपीसी) अविजित नायक और महाप्रबंधक (बिजनेस यूनिट हेड, एनएसपीसीएल, भिलाई) सोमनाथ चट्टोपाध्याय मंच पर उपस्थित थे। इसके अतिरिक्त मुख्य महाप्रबंधक, महाप्रबंधकगण तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण और कार्मिकगण भी मौजूद थे।

ये खबर भी पढ़ें : ED से सामना कर रहे विधायक देवेंद्र यादव को अब हाईकोर्ट से नोटिस, प्रेम प्रकाश पांडेय ने खेला दांव

इन कंपनियों के प्रतिनिधि पहुंचे  

बीएसपी, एनएसपीसीएल, एसबीपीडीसीएल, बीपीएससीएल, आईएसपी, आरएसपी, डीएसपी सहित विभिन्न पावर प्लांट्स और इस्पात संयंत्रों में बॉयलर संचालन और रखरखाव गतिविधियों के इंजीनियरों, सुपरवाइजरों सहित अन्य लोगों ने प्रतिनिधी के रूप में इस कार्यशाला में भाग लिया।

ये खबर भी पढ़ें : अयोध्या के लिए भक्तों का जत्था रवाना, मनीष पांडेय ने दुर्ग स्टेशन पर की मुलाकात

सीआईबी (छ.ग. सरकार) गुंजन शुक्ला ने कार्यशाला को संबोधित करते हुए कहा कि औद्योगिक बॉयलर संयंत्रों और रिफाइनरियों में सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। इंजीनियर, पर्यवेक्षक और ऑपरेटर द्वारा राज्य भर में विभिन्न कारखानों में बॉयलर संचालन का प्रबंधन किया जा रहा है।

ये खबर भी पढ़ें : EPS 95 हायर पेंशन की न्यूज: जमा होने वाली रकम, एरियर और अंतर राशि का लेटर वायरल, EPFO बोला-कोई गाइडलाइन नहीं

कुशल, सस्टेनेबल और पर्यावरण-अनुकूल तरीकों के रास्ते तलाशने में मदद

इस तरह के सामूहिक विचार-मंथन के अवसरों से न केवल हमारे अनुभवों और अंतर्दृष्टि का आदान-प्रदान होता है, बल्कि हमारा समय और दक्षता भी अनुकूलित होती है। यह कार्यशाला प्रतिभागियों को बॉयलरों के कुशल संचालन और रखरखाव के लिए अधिक कुशल, सस्टेनेबल और पर्यावरण-अनुकूल तरीकों के रास्ते तलाशने में मदद करेगी।

ये खबर भी पढ़ें : Coal India Pension: कोयला खान भविष्य निधि संगठन ने जारी किया संशोधित पेंशन पेमेंट ऑर्डर, पढ़िए डिटेल

बीएसपी के ईडी वर्क्स ने ये कहा…

कार्यपालक निदेशक (वर्क्स) अंजनी कुमार ने अपने संबोधन में कहा कि भारत की अर्थवयवस्था विकास के पथ पर तेजी से बढ़ रही है। जिसके फलस्वरूप हमारी उर्जा की खपत भी अधिक है, जो बदले में पर्यावरण पर बड़े पैमाने पर कार्बन फुटप्रिंट छोड़ती है। हमें अपने कार्बन फुटप्रिंट को कम करने के लिए अपने संसाधनों को संरक्षित करने की दिशा में प्रयास करने की आवश्यकता है।

ये खबर भी पढ़ें : Coal India Pension: कोयला खान भविष्य निधि संगठन ने जारी किया संशोधित पेंशन पेमेंट ऑर्डर, पढ़िए डिटेल

साथ ही अपनी भावी पीढ़ियों के लिए पर्याप्त संसाधन के संचय करने की भी आवश्यकता है। हमारे उद्योगों में बॉयलर्स, ऊर्जा उत्पादन और अन्य औद्योगिक प्रक्रियाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, इसलिए इनकी दक्षता में सुधार करना और ऊर्जा लागत को कम करना बहुत महत्वपूर्ण है।
इसके लिए इंजीनियरिंग और रखरखाव प्रबंधकों को बॉयलर के प्रदर्शन को प्रभावित करने वाले कारकों पर बारीकी से ध्यान देने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा, मुझे आशा है कि यह कार्यशाला इस दिशा में आपके लिए लाभप्रद होगी।

ये खबर भी पढ़ें : राउरकेला स्टील प्लांट: कर्मचारी चढ़े 40 फीट ऊंचे रैपलिंग टॉवर पर, की ऑस्ट्रेलियाई सैर, सुरंग में रेंगते रहे और की बंदर कूद

मुख्य महाप्रबंधक (पावर फैसिलिटीज-बीएसपी) राजीव पांडे ने स्वागत भाषण दिया और कार्यशाला के विषय और उद्देश्यों पर जानकारी दी। तापस दासगुप्ता, पीके सरकार, अविजित नायक और सोमनाथ चट्टोपाध्याय ने भी प्रतिनिधियों को संबोधित किया और कार्यशाला के विषय पर अपने विचार साझा किए।

ये खबर भी पढ़ें : भिलाई स्टील प्लांट: यूनिवर्सल रेल मिल के कर्मचारी ने किया कमाल, प्रबंधन कर रहा तारीफ

‘बॉयलर परिचालन सुरक्षा पहलुओं’ पर आधारित तकनीकी सत्र

इस कार्यशाला के अंतर्गत प्रत्येक सत्र में दो मुख्य वक्ताओं के साथ कुल दो तकनीकी सत्र आयोजित किए गए। आरडी (एनपीसी) अविजीत नायक ने ‘बॉयलरों में ऊर्जा परिदृश्य और निष्पादन मूल्यांकन’ पर एक शोध पत्र प्रस्तुत किया, वहीं एजीएम (जेएसपीएल-अंगुल) पद्मनाभ सामंत्रे ने ‘बॉयलरों में कुशल संचालन प्रथाओं’ पर शोधपत्र प्रस्तुत किया।

ये खबर भी पढ़ें : बोकारो में इंटर स्टील प्लांट्स फुटबॉल चैंपियनशिप शुरू, इस प्लांट की टीमों में टक्कर

प्रबंधक (पीबीएस-बीएसपी) स्वराज जोडे ने ‘भिलाई स्टील प्लांट में मोडेक्स बॉयलरों के संचालन दर्शन’ पर तथा औद्योगिक सुरक्षा विषेषज्ञ सीए मोहंती ने कार्यशाला में ‘बॉयलर परिचालन सुरक्षा पहलुओं’ पर आधारित तकनीकी सत्र का संचालन किया।

कार्यक्रम में महाप्रबंधक (पीबीएस) शेख जाकिर ने धन्यवाद ज्ञापित किया तथा संचालन कनिष्ठ अधिकारी (पीबीएस-बीएसपी) एसएन देशमुख ने किया।

ये खबर भी पढ़ें : EPS 95 Higher Pension: डिमांड लेटर में देरी से 10 हजार का नुकसान, EPFO पोर्टल से बचाइए पैसा