Suchnaji

SAIL NEWS: SEWA ने 10 जनवरी तक बढ़ाई एक्सीडेंट इंश्योरेंस स्कीम का विकल्प भरने की तारीख

SAIL NEWS: SEWA ने 10 जनवरी तक बढ़ाई एक्सीडेंट इंश्योरेंस स्कीम का विकल्प भरने की तारीख
  • ग्रुप पर्सनल एक्सीडेंट इंश्योरेंस स्कीम (GPAIS) के लिए विकल्प भरने की अंतिम तिथि बढ़ाई गई।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भिलाई इस्पात संयंत्र (Bhilai Steel Plant) के स्टील इम्प्लाइज वेलफेयर एसोसिएशन (Steel Employees Welfare Association) (SEWA) द्वारा प्रतिवर्ष (01 मार्च से 28-29 फरवरी) तक सभी सदस्य कार्मिकों के लिए ग्रुप पर्सनल एक्सीडेंट इन्शुरेन्स स्कीम (GPAIS) का संचालन किया जाता है।

AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें : EPS 95 उच्च पेंशन: EPFO के फॉर्मूले पर SAIL कर्मी की पेंशन बन रही 44795 रुपए

इसके तहत किसी दुर्घटना में मृत कर्मचारी के आश्रितों को सम्बंधित बीमा कंपनी के द्वारा पॉलिसी के नियमों और शर्तों के अंतर्गत पात्रता होने पर पचास लाख रुपये की मुआवजा राशि का भुगतान किया जाता है।

ये खबर भी पढ़ें : SAIL आरएसपी कर्मचारी के बेटे का ओडिशा रणजी ट्रॉफी टीम में चयन

‘स्टील इम्पलाईज वेलफेयर एसोसिएशन (सेवा) द्वारा संचालित ग्रुप पर्सनल एक्सीडेंट इंश्योरेंस स्कीम (GPAIS) के लिए ई-सहयोग पोर्टल पर विकल्प भरने की अंतिम तिथि में वृद्धि की गई है। अब सदस्य कार्मिक 10 जनवरी 2024 तक विकल्प का चयन कर सकते है।

ये खबर भी पढ़ें : सौरव गांगुली पहुंचे छत्तीसगढ़, सीएम विष्णु देव से की खूब बातें

इसके लिए प्रति वर्ष किसी प्रतिष्ठित बीमा कंपनी को पॉलिसी संचालन का कार्य प्रदान किया जाता है। तदनुसार देय प्रीमियम राशि का भुगतान, सदस्य कार्मिकों के वेतन से सामूहिक कटौती करने के बाद किया जाता है।

ये खबर भी पढ़ें : CG NEWS: छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग परीक्षा की जांच करेगी CBI, मंत्रिपरिषद का फैसला

जो सदस्य कार्मिक इस योजना में शामिल नहीं होना चाहते हैं, वे 10 जनवरी 2024 तक ई-सहयोग पोर्टल पर जाकर “नहीं” विकल्प पर क्लिक करें। ई-सहयोग पोर्टल पर यह विकल्प ना भरने वाले कार्मिकों के सन्दर्भ में यह मान्य होगा कि वे इस योजना में शामिल होने हेतु इच्छुक हैं।

ये खबर भी पढ़ें : सड़क हादसे में Bokaro Steel Plant के कर्मचारी की कार पेड़ से टकराई, सदर अस्पताल से ले आए BGH

पिछले वर्ष प्राप्त फीडबैक के आधार पर शासी समिति, सेवा के द्वारा वर्ष 2024-25 के लिए प्रस्तावित पॉलिसी के पूर्व, सदस्य कार्मिकों की सहमति प्राप्त करने का निर्णय लिया गया है। उल्लेखनीय है कि असहमति के विकल्पों की प्राप्त संख्या के आधार पर इस योजना में शामिल होने के इच्छुक कार्मिकों की देय प्रीमियम राशि में वृद्धि या प्राप्य मुआवजा राशि में कमी आ सकती है।

ये खबर भी पढ़ें : BSP कर्मचारियों के लिए होने जा रहा कुछ नया, DIC-ED ने भरा दम, पढ़िए 21 डिमांड