Suchnaji

भिलाई इस्पात संयंत्र: इंटर्नल ऑडिटर्स के लिए खास इवेंट, ईडी वर्क्स ने दिया मंत्र

भिलाई इस्पात संयंत्र: इंटर्नल ऑडिटर्स के लिए खास इवेंट, ईडी वर्क्स ने दिया मंत्र
  • ईडी वर्क्स अंजनी कुमार ने अपने उदबोधन में आईएसओ (ISO) स्टैंडर्ड्स की महत्ता पर प्रकाश डाला। 25 अधिकारियों को ट्रेनिंग।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। सेल-भिलाई इस्पात संयंत्र (SAIL – Bhilai Steel Plant) में IMS पद्धति के अंकेक्षण (Audit) को सुदृढ़ करने के उद्देश्य से, संयंत्र के व्यवसायिक उत्कृष्टता विभाग द्वारा आईएमएस इंटर्नल ऑडिटर्स के लिए ट्रेनिंग प्रोग्राम आयोजित किया गया। 12 से 15 फरवरी 2024 तक भिलाई प्रबंधन विकास केन्द्र बीएमडीसी में इस कार्यक्रम के उद्धघाटन समारोह में संयंत्र के कार्यपालक निदेशक (वर्क्स) अंजनी कुमार मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे। इस ट्रेनिंग प्रोग्राम में संयंत्र के विभिन्न विभागों के 25 अधिकारीयों ने भाग लिया था।

AD DESCRIPTION

मुख्य अतिथि ईडी वर्क्स अंजनी कुमार ने अपने उदबोधन में आईएसओ (ISO) स्टैंडर्ड्स की महत्ता पर प्रकाश डाला और ट्रेनिंग प्रोग्राम की सराहना करते हुए कहा कि, इस ट्रेनिंग प्रोग्राम के प्रतिभागी आगे चल कर संयंत्र में आईएसओ (ISO) स्टैंडर्ड्स को और भी बेहतर ढंग से लागू करेगें और सभी स्टैंडर्ड्स को अधिक प्रभावशाली बनाएंगे। जिसकी मदद से हम आगे आने वाली चुनौतियों एवं वैश्विक प्रतिस्पर्धा का बेहतर ढंग से सामना कर सकेंगे।

भिलाई इस्पात संयंत्र, सेल की प्रथम इकाई है, जहां आईएमएस पद्धति को सबसे पहले लागू किया गया। संयंत्र की आईएमएस पद्धति के अंतर्गत चार ISO स्टैंडर्स (QMS, EMS, OHSMS, SAMS) को सम्मिलित किया गया है।

भिलाई इस्पात संयंत्र (Bhilai Steel plant), स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (Steel Authority of India Limited) की ध्वजवाहक इकाई है। इसके प्रमुख कारणों में से एक, संयंत्र में आईएसओ (ISO) प्रणाली को लागू किया जाना तथा उसका कठोरतापूर्वक अनुपालन किया जाना है।

भिलाई इस्पात संयंत्र विगत तीन दशकों से आईएसओ प्रणाली का पालन कर रहा है। संयंत्र में कुल सात आईएसओ स्टैंडर्स (ISO 9001, ISO14001, ISO 45001, SA8000, ISO 27001, ISO 50001 और  ISO 37001) को लागू किया गया है।

उद्धघाटन समारोह में महाप्रबंधक (व्यवसायिक उत्कृष्टता) मनोज दुबे ने स्वागत उदबोधन प्रस्तुत किया। उन्होंने बताया कि, इस ट्रेनिंग प्रोग्राम में तीन आईएसओ स्टैंडर्स (QMS, EMS & OHSMS) के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई। आईएसओ स्टैंडर्स के अनुपालन से संयंत्र को गुणवत्तापूर्ण उत्पाद बनाने में काफी मदद मिली है। जिससे ग्राहकों का हमारे उत्पादों पर भरोसा बढ़ा है।

मेसर्स टीयूवी इण्डिया प्राइवेट लिमिटेड के मास्टर ट्रेनर/लीड ऑडिटर उदय शर्मा, इस ट्रेनिंग प्रोग्राम में प्रशिक्षक की भूमिका में थे। सभी प्रतिभागियों का ट्रेनिंग के दौरान अवलोकन करने के साथ-साथ 15 फरवरी को लिखित परीक्षा भी ली गई। इसमें उत्तीर्ण होने के पश्चात ही प्रतिभागियों को इंटर्नल ऑडिटर का प्रमाण पत्र प्रदान किया गया।

उद्धघाटन समारोह के अंत में उप-महाप्रबंधक (व्यवसायिक उत्कृष्टता) प्रकाश साहू ने धन्यवाद ज्ञापन एवं प्रबंधक (व्यवसायिक उत्कृष्टता) रवि कुमार ने कार्यक्रम का संचालन किया।