Suchnaji

Big News: हाईकमान की इच्छा के बाद भी चुनाव लड़ने से पीछे हट रहे कांग्रेस नेता, मोदी मैजिक का असर या अन्य वजह, जानें

Big News: हाईकमान की इच्छा के बाद भी चुनाव लड़ने से पीछे हट रहे कांग्रेस नेता, मोदी मैजिक का असर या अन्य वजह, जानें

सूचनाजी न्यूज, रायपुर। अगले कुछ दिन में होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए राजनैतिक दलों द्वारा जीत के लिए जोर-आजमाइश की जा रही है। राष्ट्रीय पार्टियों से लेकर क्षेत्रीय दलों और नवोदित सेट हुए गठबंधन वाले समूह भी जीत के लिए रणनीतियां बना रहे है।

AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें : Bhilai Township में हादसा, हाइड्रोलिक सिस्टम फेल, बिजली के पोल से टकराया हाइवा, सेक्टर 5 में अंधेरा

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (AICC) द्वारा छत्तीसगढ़ में जीत के लिए रणनीति के तहत निर्णय लिए जा रहे है। चर्चा है कि प्रदेश की लोकसभा सीटों पर जीत दर्ज करने के लिए कांग्रेस द्वारा फॉर्मूला बनाया गया है। ऐसा बताया जा रहा है कांग्रेस हाईकमान पार्टी के बड़े नेताओं को चुनाव लड़ने कह रही है। लेकिन पार्टी के बड़े नेता चुनाव लड़ने से पीछे हट रहे है।

ये खबर भी पढ़ें : भिलाई स्टील प्लांट के पूर्व ईडी वर्क्स बीएमके बाजपेयी ने अब कही बड़ी बात, पढ़िए डिटेल

इसे कुछ लोग प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का भौकाल बता रहे है। तो कुछ लोग इसमें अपनी पसंद और नापसंद की पार्टी के हिसाब से तर्क और वितर्क कर रहे है। कांग्रेस नेताओं के चुनावी मैदान से पीछे हटने की चर्चा जोरो पर है, अब असल वजह तो चर्चा में बने हुए नेता की बता पाएंगे।

ये खबर भी पढ़ें : बीएसपी का एक्शन: टाउनशिप की सड़कों पर जहां कब्जेदार लगाते हैं ठेला, वहीं, खुदाई शुरू

खैर, चर्चा है कि कांग्रेस का केंद्रीय संगठन बड़े नेताओं को मैदान में उतरने कह रहा है। लेकिन प्रदेश के दिग्गज नेता चुनाव लड़ने से मना कर रहे है। सूत्रों की मानें तो सरगुजा से ताल्लुख रखने वाले और प्रदेश के पूर्व उप मुख्यमंत्री (Ex Dy CM) टीएस.सिंहदेव को बिलासपुर लोकसभा सीट से चुनावी रण में उतरने कहा जा रहा है।

ये खबर भी पढ़ें : SAIL कर्मचारियों को हर महीने 1 हजार से ज्यादा का नुकसान, Bhilai BMS 6 को घेरेगी बोरिया गेट

लेकिन वे पारिवारिक कारणों का हवाला देते हुए चुनाव लड़ने से इंकार कर रहे है। इसी प्रकार से अनुसूचित जनजाति (ST) वर्ग के लिए आरक्षित रायगढ़ लोकसभा सीट से पूर्व कैबिनेट मंत्री अमरजीत भगत को चुनाव लड़ने कहा जा रहा है। लेकिन बताया जा रहा है कि वे भी चुनाव लड़ने से मना कर रहे है। इसी तरह से कई और नेताओं के चुनावी मैदान से पीछे हटने की खूब चर्चा हो रही है।

ये खबर भी पढ़ें : 53वां राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस: Bhilai Steel Plant ने दोहराया सुरक्षा का मंत्र, लगी गब्बर की पाठशाला, सबने खाई कसम