Suchnaji

Bokaro Township: आवास, पानी, रंग-रोगन, सड़क, नाली को लेकर बढ़ा तनाव, सीविल मेंटेनेंस का बनाएं कैलेंडर, दें फंड

Bokaro Township: आवास, पानी, रंग-रोगन, सड़क, नाली को लेकर बढ़ा तनाव, सीविल मेंटेनेंस का बनाएं कैलेंडर, दें फंड
  • अनुरक्षण कार्य को संपादित कराने वाले अधिकारी तथा कर्मचारी का नाम पदनाम तथा फोन नंबर का विवरण वेबसाईट पर दिया जाए।

सूचनाजी न्यूज, बोकारो। बोकारो स्टील प्लांट (Bokaro Seel Plant) के कर्मचारी टाउनशिप की समस्याओं से काफी परेशान हैं। बीएसएल अनाधिशासी कर्मचारी संघ (BSL Unofficial Employees Union) ने नगर सेवा सीविल अनुरक्षण महाप्रबंधक को सीविल अनुरक्षण में गुणात्मक सुधार के लिए पत्र सौंपा है।

AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें :Chhattisgarh Election News: भूपेश बघेल, ताम्रध्वज साहू और PCC चीफ दीपक बैज सहित ये दिग्गज लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

यूनियन ने लिखा है कि बोकारो इस्पात संयंत्र का टाउनशिप जो कि देश की सभी पब्लिक सेक्टर कंपनियों का टाउनशिप में एक प्रमुख स्थान रखता है। इसमे 10 सेक्टर, 37386 आवासीय क्वाटर, सैकड़ों किलोमीटर सड़क, ड्रेनेज लाइन, पार्क, खेल का मैदान, बीएसएल विद्यालय, बाजार तथा निजी भवन है।

ये खबर भी पढ़ें :Chhattisgarh Election News: भूपेश बघेल, ताम्रध्वज साहू और PCC चीफ दीपक बैज सहित ये दिग्गज लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

इतने बड़े टाउनशिप तथा आवासों की संख्या को देखते हुए नगर सेवा विभाग के सिविल अनुरक्षण अनुभाग की कार्यप्रणाली में आपेक्षित बदलाव की जरूरत है, ताकि संयंत्र में कार्यरत कर्मचारियों को कम परेशानी हो।

ये खबर भी पढ़ें :Chhattisgarh Election News: भूपेश बघेल, ताम्रध्वज साहू और PCC चीफ दीपक बैज सहित ये दिग्गज लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

यूनियन द्वारा दिया गया सुझाव और समाधान

1. आवास अनुरक्षण हेतु शिकायत दर्ज कराने की वर्तमान प्रणाली तथा उसमे सुधार: कर्मचारियों को आवास अनुरक्षण हेतु bslta.in पर जाकर शिकायत दर्ज करानी होती है। लेकिन शिकायत दर्ज कराने के बाद उनको उनके शिकायत पर की गई प्रगती की कोई भी जानकारी नहीं मिलती है।

ये खबर भी पढ़ें :Chhattisgarh Election News: भूपेश बघेल, ताम्रध्वज साहू और PCC चीफ दीपक बैज सहित ये दिग्गज लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

साथ ही उक्त अनुरक्षण कार्य को संपादित कराने वाले अधिकारी  तथा कर्मचारी का नाम पदनाम तथा फोन नंबर का विवरण उक्त वेबसाईट पर नहीं दिया जाता है। यूनियन का सुझाव है कि कार्य को पुरा कराने वाले अधिकारी तथा कर्मचारी के विवरण को भी शिकायत पोर्टल पर प्रदर्शित किया जाए।

ये खबर भी पढ़ें :BSP की जमीन पर खुलेगा CGHS सेंटर-दवाखाना, कर्मचारियों, पेंशनभोगियों और आश्रित परिवार का ऐसे होगा इलाज

2.आवास अनुरक्षण के लिए नियत समय तय करना: अभी आवास अनुरक्षण हेतु कोई नियत समय तय नहीं किया गया है। साथ की अनुरक्षण में होने वाले कार्यों की पूर्ण जानकारी आवासधारी को होनी चाहिए, जिससे वे स्वयं ही नजर रख सकें। इसके कारण आवासधारी को कई बार लंबी प्रतीक्षा करनी होती है। आवास का जर्जर दरवाजा, खिड़की आदि बदलवाने में काफी समय लग रहा है। अतः पिछले पांच सालों में दर्ज कराई गई सिविल अनुरक्षण शिकायतों के आधार पर अनुमानित खर्च का आकलन कर एक बजट बनाया जाए। फिर उसके आधार पर आवासों में लगने वाली नई खिड़की, दरवाजे आदि की व्यवस्था पहले से की जाए। वहीं, जर्जर  फर्श तथा छत की मरम्मत हर हालत में एक सप्ताह में पूरा कराने की गारंटी दी जाए।

ये खबर भी पढ़ें :ये खबर भी पढ़ें :बोकारो स्टील प्लांट के मजदूर उतरे सड़क पर, टेबल के नीचे से लेनदेन पर दहाड़े राजेंद्र सिंह, देखिए वीडियो

3. आवासों में जल रिसाव तथा जर्जत छत की मरम्मत: बीएसएल के अधिकतर आवासों की आयु 30 वर्ष  से ऊपर हो गई है। सीमेंट तथा  कंक्रीट से बने आवासों की अधिकतम आयु 40 वर्ष के आसपास तय की गई है। उसमे भी उक्त आवासों का सही तरीके से अनुरक्षण होने पर ही सभी आवासों की स्थिति निवास योग्य रहती है, परंतु अधिकतर आवासों का बाह्य अनुरक्षण तथा रंग-रोगन वर्षों से नहीं होने के कारण आवासों की दीवारों का बाह्य प्रतिरोध काफी कमजोर हो गया है।

ये खबर भी पढ़ें :वित्तीय वर्ष 2023-24 की आखिरी तिमाही में लंबी छलांग की ओर Bhilai Steel Plant, पढ़िए आंकड़े

समस्या का समाधान

प्रत्येक क्वाटर और ब्लॉक का डिजिटल-ऑनलाइन रिकॉर्डिंग रखा जाए तथा वार्षिक अनुरक्षण कैलेंडर भी बनाया जाए। जिसमे पहले किए गए अनुरक्षण और रंग-रोगन का समय तथा विवरण दर्ज हो। साथ ही प्रत्येक आवासीय ब्लॉक के दीवारों पर पिछली अनुरक्षण की तारीख तथा अगले अनुरक्षण-रंग-रोगन की संभावित तिथि की जानकारी दी जाए। इससे लाभ यह होगा कि आवासों का अनुरक्षण हेतु संभावित बजट तैयार होगा तथा उच्च प्रबंधन द्वारा बजट दिया भी जाएगा।

ये खबर भी पढ़ें :छत्तीसगढ़ में सिर्फ BSP कर्मचारी के खाते में आई बढ़ी EPS 95 हायर पेंशन, बाकी इंतजार में

4. फ्रेश आवास आवंटन केस: फ्रेश आवास आवंटन के मामले  में आवास का आंतरिक अनुरक्षण हेतु क्षेत्रफल तथा बढ़ती महंगाई के हिसाब से तय की गई राशि को आवासधारी को भुगतान किया जाए। इससे बेवजह ठेकेदारी प्रथा के कारण विलंब से अनुरक्षण होने की शिकायत पर रोक लगाई जा सकेगी। साथ ही अनुरक्षण की गुणवत्ता मे शिकायत भी नहीं रहेगी।

ये खबर भी पढ़ें :छत्तीसगढ़ में सिर्फ BSP कर्मचारी के खाते में आई बढ़ी EPS 95 हायर पेंशन, बाकी इंतजार में

5. आवासों के रसोईघर, शौचालय तथा स्नानघर में टाइल्स   लगाना: जिस आवास में कर्मचारी निवासरत हैं, उन आवासों का शौचालय, स्नानघर और रसोईघर की फर्श तथा दीवारों में टाईल्स लगवाया जाए।

ये खबर भी पढ़ें :BSP एससी-एसटी इम्प्लाइज एसोसिएशन की गुटबाजी में उलझा डाक्टर अंबेडकर की प्रतिमा स्थल का सौंदर्यीकरण

6. जर्जर पानी टंकी को हटाकर वाटर सिंटैक्स टैंक लगाएं: बीएसएल आवासों के ऊपर सीमेंट की टंकियों की आयु 30-40 वर्ष की पूरी हो चुकी है। कई टंकियों की हालत गंभीर है, जिसे आप अपने यहां आए शिकायतों के आधार पर समझ सकते है। टंकियों से स्थित बुरी होने के कारण रूफ सीपेज,अनावश्यक पेड़ों के उग जाना जैसे समस्याएं पूरे ब्लॉक को नुकसान पहुंचा रही है। वहीं, अधिकतर टंकियों के भीतर गंदगी भी जमा है। अतः उन टंकियो को हटा कर उसकी जगह अच्छी गुणवत्ता का प्लास्टिक वाटर टैंक (1000 लीटर क्षमता ) लगाया जाए।

ये खबर भी पढ़ें :सरकार, EPFO ने स्पष्ट कर दिया-एक भी मांग EPS 95 के प्रावधान में है ही नहीं, पूरी कैसे हो!

7. टाउनशिप की सड़कों का अनुरक्षण: समान्यतः कोलतार से बने सड़कों की आयु 5 वर्ष होती है। जबकि सीमेंट से बनी सड़कों की आयु 35-40 वर्ष की होती है। वहीं, बोकारो स्टील के पास पर्याप्त मात्रा में स्लैग है तथा स्लैग आधारित निजी क्षेत्र में कार्यशील सीमेंट प्लांट भी है। जहां से कम दाम में सीमेंट उपलब्ध कराया जा सकता है। अतः नगर की सड़कों को क्रंक्रीट और सीमेंट की मदद से और अधिक टिकाऊ बनाया जाए।

ये खबर भी पढ़ें : Good News: कोलकाता में दौड़ी देश की पहली अंडर वाटर ट्रेन, दुनिया में सबसे गहराई में बना मेट्रो स्टेशन, जानिए खास बातें

8. नालियो का मेंटेनेंस: कई नालियों में अभी भी काफी कचरा भरा हुआ है। सुअर लोटते रहते हैं। कई जगह नालियां टूटी हुई है। अतः सभी नालियों की स्वतंत्र जांच कराकर उनकी सफाई तथा मेंटनेंस के लिए वार्षिक कैलेंडर बनाया जाए तथा बजट का प्रावधान किया जाए।

9. सड़कों का नामकरण या संख्याकरण किया जाए।

10. आवासों पर आवास नंबर अंकित किया जाए।

ये खबर भी पढ़ें : Big Breaking: दुनिया भर में डाउन हुआ इंस्टाग्राम और फेसबुक का सर्वर, भारत में भी बैठी साइट

कारखाना अधिनियम में सुसज्जित आवास और टाउनशिप का प्रावधान

हमारी यूनियन द्वारा उठाए गए सभी मुद्दों, बुनियादी आवश्यकता से संबंधित है। कई सुवाधाओं को सिर्फ थोड़ी राशि खर्च कर ही पूरा किया जा सकता है। कारखाना अधिनियम में सुसज्जित आवास और टाउनशिप का प्रावधान किया गया है। अतः नगर सेवा तय मानकों को हर हालत में पूरा करे।
आशुतोष आनंद-उपमहासचिव, बीएकेएस बोकारो

ये खबर भी पढ़ें : खबर का असर: Suchnaji.com में खबर आते ही देश की पहली 78 मीटर लंबी रेल पटरी के टुकड़ों को BSP ने बटोरा, फिर जोड़ा