Suchnaji

बीएसपी ने विकसित किया नया ग्रेड, हाई कार्बन ग्रेड वायर रॉड के उत्पादन के लिए मिला लाइसेंस

बीएसपी ने विकसित किया नया ग्रेड, हाई कार्बन ग्रेड वायर रॉड के उत्पादन के लिए मिला लाइसेंस
  • यह विद्युत उद्योग में केबलों हेतु उपयुक्त है। इस ग्रेड के ग्राहकों में एचडी वायर, अखिल स्टील और राष्ट्रीय लघु उद्योग शामिल हैं।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। सेल-भिलाई इस्पात संयंत्र को आईएस-7904 ग्रेड स्टील वायर रॉड की पूरी रेंज के उत्पादन के लिए लाइसेंस प्रदान किया गया है। आईएस-7904 हाई कार्बन स्टील वायर रॉड्स, बीआईएस (भारतीय मानक ब्यूरो) के विनिर्देशों के अनुरूप है। इस लाइसेंस के प्राप्त होने के साथ ही भिलाई इस्पात संयंत्र अब अपने वायर रॉड मिल (डब्ल्यूआरएम) से हाई कार्बन वायर रॉड का उत्पादन करने की ओर अग्रसर है।

AD DESCRIPTION R.O. No. 12697/ 111

ये खबर भी पढ़ें:  बीएसपी के आइएंडए जोन के अधिकारी पाली और कर्मचारी कर्म शिरोमणि से सम्मानित

AD DESCRIPTION R.O. No.12697/ 111

ग्राहकों की मांगों के अनुसार उपयुक्त विनिर्देशों और रसायन के साथ उत्पादों के अनुकूलित ग्रेड विकसित करना सेल-भिलाई इस्पात संयंत्र के लिए हमेशा एक महत्वपूर्ण क्षेत्र रहा है।

ये नए ग्रेड न केवल ग्राहकों की मांगों को पूरा करते हैं और नए अनुप्रयोगों में प्रयुक्त होते हैं बल्कि मूल्य वर्धित ग्रेड के विकास और आपूर्ति से अधिक लाभ की प्राप्ति भी होती है। उत्पादों के नए ग्रेड प्लांट के गुणवत्ता विभाग, स्टील मेल्टिंग शॉप और संबंधित रोलिंग मिल की क्रॉस-फंक्शनल टीमों द्वारा विकसित किया जाता है।

ये खबर भी पढ़ें: भिलाई स्टील प्लांट महिलाओं को सिखा रहा जूट हस्तशिल्प, ट्रेनिंग तक मिलेगा 3 हजार

संयंत्र की वायर रॉड मिल गार्डन वेरायटी ग्रेड के साथ-साथ विशेष स्टील ग्रेड्स जैसे टीएमटी रॉड्स, उच्च जंगरोधी टीएमटी (एचसीआरएम), भूकंपरोधी टीएमटी (ईक्यूआर-डी) रॉड और इलेक्ट्रोड गुणवत्ता वाले वायर रॉड ग्रेड्स का उत्पादन करती है। संयंत्र के आधुनिकीकरण और विस्तारीकरण के बाद, वायर रॉड मिल नए और आधुनिक स्टील मेल्टिंग शॉप-3 (एसएमएस-3) से प्राप्त बिलेट्स से अपने उत्पादों की रोलिंग कर रहा है।

ये खबर भी पढ़ें: Bhilai Steel Plant में चोरों की सल्तनत, OHP में सेंधमारी, कर्मियों की जान जोखिम में, CISF की मांग

उल्लेखनीय है कि एसएमएस-3 तथा वायर रॉड मिल द्वारा दो नए ईडब्ल्यूएनआर और सीएक्यू ग्रेड के वायर रॉड विकसित किए जा चुके हैं तथा इन ग्रेड्स की वर्तमान वित्त वर्ष में आपूर्ति भी की जा रही है। आईएस-7887 ग्रेड 1-सीएक्यू ग्रेड के वायर रॉड को 5.5 और 6.0 मिमी के आयामों में विकसित किया गया है।

इस उत्पादों में सबसे अनुकूलतम रसायनों का प्रयोग किया गया है जिसके कारण ये उच्च प्रतिरोधकता तथा उच्च तन्यता की क्षमता रखते है। इस प्रकार यह विद्युत उद्योग में केबलों हेतु उपयुक्त है। इस ग्रेड के ग्राहकों में एचडी वायर, अखिल स्टील और राष्ट्रीय लघु उद्योग शामिल हैं।

ये खबर भी पढ़ें:   SAIL खदान के पूर्व कर्मचारियों को लाइसेंस पर आवास देने पर जल्द फैसला

एसएमएस-3 तथा वायर रॉड मिल द्वारा विकसित अन्य नये ग्रेड आईएस 2879-ईडब्लूएनआर को भी 5.5 और 6.0 मिली मीटर के आयामों विकसित किया गया है। इन ग्रेडों में सबसे अनुकूल रसायन विशेष रूप से 0.03 प्रतिशत सिलिकॉन की अधिकतम मात्रा का प्रयोग किया गया है। इसका उपयोग इलेक्ट्रोड निर्माण में किया जाता है।

इस ग्रेड के 15,000 टन से अधिक की रोलिंग की जा चुकी है तथा एचडी वायर, सालासर एलॉय एंड स्टील, एडोर वेल्डिंग और ईएसएबी इंडिया सहित विभिन्न ग्राहकों को भेजा भी किया जा चुका है।

कार्बन की उच्च मात्रा वाला आईएस 7904 एचसी 38 और एचसी 80 ग्रेड स्टील वायर रॉड भी एसएमएस-3 तथा वायर रॉड मिल द्वारा विकसित एक और उच्च मूल्य वर्धित ग्रेड स्टील है। भिलाई इस्पात संयंत्र को बीआईएस द्वारा आईएस-7904 की पूरी श्रृंखला के निर्माण के लिए लाइसेंस प्रदान किया गया है। 5.5 और 6.0 मिमी के आयाम में विकसित, वायर रॉड के इस उच्च कार्बन स्टील ग्रेड का उपयोग ब्रिज केबल, टायर सुदृढीकरण सामग्री में किया जाता है।