Suchnaji

BSP कर्मचारी पर CBI एक्शन: कर्मचारियों के ट्रांसफर पर BWU का बड़ा सवाल

BSP कर्मचारी पर CBI एक्शन: कर्मचारियों के ट्रांसफर पर BWU का बड़ा सवाल

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। सीबीआई (CBI) जांच के बाद प्रशानिक कसावट के नाम पर बीएसपी नगर सेवा विभाग (BSP Municipal Service Department) द्वारा मात्र कर्मचारियों पर कार्यवाही और अधिकारियों को छूट का विरोध किया बीएसपी वर्कर्स यूनियन ने किया है।

AD DESCRIPTION

प्रधानमंत्री ट्राफी व SAIL छात्रवृत्ति शैक्षणिक सत्र 2023-2024: BSP कर्मचारी-अधिकारी के बच्चे करें आवेदन, पढ़िए डिटेल

अध्यक्ष उज्जवल दत्ता का कहना है कि नगर सेवा विभाग द्वारा सीबीआई जांच के उपरांत एक तरफा कर्मचारियों पर कार्यवाही पर भिलाई इस्पात संयंत्र के कर्मचारियों में जबरदस्त आक्रोश व्यक्त किया।

ये खबर भी पढ़ें : ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड के डायरेक्टर नीलेंदु कुमार होंगे सेंट्रल कोलफील्ड्स लिमिटेड के CMD

बीएसपी वर्कर्स यूनियन ने आम बीएसपी वर्कर्स की भावना का सम्मान करते हुए प्रबंधन से मांग रखी की वर्षों से नगर सेवा विभाग में काबिज अधिकारियों पर क्यों नहीं एक्शन लिया जा रहा है।

ये खबर भी पढ़ें : हॉकी के फाइनल में RSP ने TATA Steel को 3-2 से हराया, इधर-BSP करेगा SAIL वॉलीबॉल चैंपियनशिप 2023-24 की मेजबानी

उज्ज्वल दत्ता ने कहा-कुछ अधिकारी तो ऐसे है, जिनका ट्रांसफर आदेश निकलने के बाद भी उन्हें अन्यत्र नहीं भेजा गया। वरन उन्हें नगर सेवा विभाग में ही रखा गया। यूनियन ने प्रबंधन के साथ हुए उच्च स्तरीय बैठक में लगातार नगर सेवा विभाग के एक अधिकारी के बारे में शिकायत किया गया, उसके उपरांत भी उक्त अधिकारी पर कार्यवाही के स्थान पर ऐसे अधिकारी को प्रमोशन देकर महिमा मंडित किया गया।

ये खबर भी पढ़ें : भिलाई स्टील प्लांट के इन अधिकारियों-कर्मचारियों को मिला ये स्पेशल अवॉर्ड

और उन्हें और भी महत्वपूर्ण स्थान दिया गया। नगर सेवा विभाग का ये हाल है कि अधिकारी संयंत्र कर्मियों से सीधे मुंह बात तक नहीं करते। आम कर्मी अपनी समस्या के लिए मिलना चाहते हैं, पर मिलते तक नहीं हैं। परंतु इन अधिकारियों को अगर सेवा विभाग में बरसों से काबिज रखा जाता है, उनका स्थानांतरण तक नहीं किया जाता है।

ये खबर भी पढ़ें : महतारी वंदन योजना: पूर्व मंत्री प्रेम प्रकाश पांडेय पहुंचे शिविर में, जानिए क्या कहा

जिस कर्मचारी के ऊपर कार्रवाई किया गया है, उसके संबंध में अधिकारी का  यह कहना कि दोषी कर्मचारी से तीन माह से कोई कार्य ही नहीं लिया जाता था। आश्चर्य जनक है। तो क्या दोषी कर्मचारियों को बिना काम के ही वेतन दिया जा रहा था या फिर उसे और कौन से काम में लगा रखा गया था। इसका स्पष्टीकरण होना चाहिए।

ये खबर भी पढ़ें : SAIL NEWS: ठेका श्रमिकों से NJCS यूनियन ने किया छल

नगर सेवा विभाग के अधिकारी अपने कर्मचारियों को कार्य बांटने में सक्षम नहीं

नगर सेवा विभाग के कई कर्मचारियों ने अपने कार्य के लिए अपने जान की बाजी लगा दी और  कर्मचारी  कई सारे न्यायालय प्रकरण में लिप्त होकर न्यायालय का चक्कर लगा रहे हैं। ऐसे कर्मचारियों पर भी रातों-रात कार्यवाही कर उनके कर्तव्य निष्ठा पर भी प्रश्न चिन्ह लगा दिया गया है।

ये खबर भी पढ़ें : SAIL में AWA का पैसा बढ़ने पर मजदूरों ने खिलाई एक-दूसरे को मिठाई, BSL में NJCS नेता दहाड़े

रातों-रात किए गए नगर सेवा विभाग के कार्यवाही से मात्र ऐसा प्रतीत हो रहा है कि विभाग अपनी साख को बचाने के लिए इस प्रकार की कार्रवाई कर रहा है, जबकि नगर सेवा विभाग में परिवर्तन और सुधार की आवश्यकता है।

ये खबर भी पढ़ें : SAIL में AWA का पैसा बढ़ने पर मजदूरों ने खिलाई एक-दूसरे को मिठाई, BSL में NJCS नेता दहाड़े

नगर सेवा विभाग (Municipal Services Department) सबसे पहले अपने अधिकारियों से निर्देशित करें कि वह कर्मचारियों और यूनियन के पदाधिकारी के साथ सीधे संवाद स्थापित करें। और जिससे कि उनसे मिलने के लिए किसी बिचौलिया की आवश्यकता ना पड़े। कर्मचारियों की समस्या का समाधान सीधे हो सके। तभी नगर सेवा विभाग में भ्रष्टाचार को लगाम लगेगी और कर्मचारियों एवं यूनियन का भी सम्मान रह पाएगा।

ये खबर भी पढ़ें : बीएसपी ब्लास्ट फर्नेस के अधिकारी और कर्मचारियों को मिला शिरोमणि अवॉर्ड