Suchnaji

EPS 95 Pension: नहीं चाहिए पेंशन-वेंशन, EPFO लौटाए जमा पैसा

EPS 95 Pension: नहीं चाहिए पेंशन-वेंशन, EPFO लौटाए जमा पैसा
  • लोग पूछते हैं कि बिल्ली के गले में कौन घंटी बांध सकता है?

सूचनाजी न्यूज, दिल्ली। ईपीएस 95 पेंशन (EPS 95 Pension) ने लोगों की धड़कन बढ़ा दिया है। महज एक हजार रुपए में परिवार का खर्च चलाने वालों की बात दिल दहलाने वाली है। सवाल उठाए जा रहे हैं कि ईपीएफओ (EPFO) के अस्तित्व में रहने का क्या मतलब?

AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें : 55 से 200 रुपए तक हर माह कीजिए जमा, किसानों को मिलेगी 3 हजार पेंशन

पेंशनर्स कहते हैं इसे बंद कर देना चाहिए। हमारा सब जमा पैसा लौटा दें। पेंशन-वेंशन नहीं चाहिए, जब उनके पास हमें पेंशन देने के लिए पैसे ही नहीं…। जैसा कि वो कहते आये हैं कि EPFO लगातार घाटे में चल रही है।

ये खबर भी पढ़ें : रिटायरमेंट पर सवा करोड़ का फंड और 25 हजार तक पेंशन, NPS का तरीका

Anil Kumar Namdeo ने फेसबुक पर लिखा-हम देखते आये हैं कि सरकार की एक अहम नीति चलती आई  है कि जो सरकारी संस्थान घाटे में चल रहीं हों, या तो उसका आधा निवेश निजी हाथों में कर दिया जाए। या बंद कर दिया जाए। या फिर अनुदान दे कर पुनर्जिवित कर दिया जाए।

ये खबर भी पढ़ें :  इलेक्टोरल बॉन्ड पर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का पालन करे केंद्र सरकार, भिलाई में हंगामा

पेंशर्न ने भड़ास निकालते हुए लिखा-अब जब EPFO रो-रो कह रही है कि वो लगातार घाटे में चल रही है,उसके पास पेंशनरों को देने के लिए पैसे नहीं है, तो फिर क्या कारण है कि सरकार ऐसी डूबती संस्था का कायाकल्प क्यूं नहीं करना चाहती? क्यूं नहीं इसे बंद करना चाहती?

ये खबर भी पढ़ें :  राम लला प्राण प्रतिष्ठा 22 जनवरी  सी-ऑफ के लिए अवकाश मॉड्यूल में व्यवस्था नहीं, आवेदन कैसे करें

ऐसी संस्था जो कल्याणकारी उद्देश्य को लेकर स्थापित की गई हो और वो अपने उद्देश्यों में पूर्णतः असफल साबित हो रही है। उसे बनाये रखने का क्या तर्क हो सकता है। असल  बात तो ये है कि EPFO एक ऐसी संस्था है, जो बिना हल्दी फिटकरी लगाए,अरबो-खरबों का लाभ कमाते आई है। ऐसी संस्था को कौन सी सरकार है, जो बंद करना चाहेगी?

ये खबर भी पढ़ें :  बोकारो जनरल हॉस्पिटल: BGH के डीएनबी को मिला बेहतर इलाज का मंत्र

लोग पूछते हैं कि बिल्ली के गले में कौन घंटी बांध सकता है? बिल्ली के गले में घंटी डालने वाली सरकार ही हो सकती थी,पर वो ऐसा क्यों करेगी…। वो  तो आपके कल्याण के लिए वचन बद्ध है…आपके तमाम होने तक।

ये खबर भी पढ़ें :  Bokaro Steel Plant: पानी टंकी ध्वस्त होने के बाद प्रबंधन मौन, मामला जाएगा इस्पात मंत्रालय और सेल कारपोरेट आफिस तक