Suchnaji

श्रमिकों की संख्या में वृद्धि, 50 हजार 657 मजदूरों को रोज मिल रहा नरेगा में काम

श्रमिकों की संख्या में वृद्धि, 50 हजार 657 मजदूरों को रोज मिल रहा नरेगा में काम
  • मनरेगा का मानव दिवस का हुआ लक्ष्य पूर्ण।

सूचनाजी न्यूज, दुर्ग। जिले में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Scheme) की मूल अवधारणा हर हाथ को काम मिले और काम का पूरा दाम मिले। जिले में यह अवधारणा पूरा होते हुए दिख रहा है। मनरेगा के तहत श्रमिकों को आत्मनिर्भर बनाने हेतु जिले के 103514 पंजीकृत परिवारों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराया जा रहा है।

AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें :  हरियाणा से पेंशन पर खबर, पढ़िए EPS 95 न्यूनतम पेंशन, EPFO और सरकार का मास्टरस्ट्रोक

वित्तीय वर्ष 2023-24 में 35 लाख 48 हजार 633 का मानवदिवस रोजगार देने का लक्ष्य प्राप्त हुआ है, जिसमें जिले में 36 लाख 50 हजार 605 मानवदिवस का रोजगार सृजित किया गया। ग्रामीण परिवारों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए मनरेगा योजना ने पूरा योगदान दिया।

ये खबर भी पढ़ें :  Bokaro Steel Plant: 2 कर्मचारी की कारों से चारों चक्का ले गए चोर, हंगामा

मनरेगा के तहत वर्ष 2023-24 में कुल 3400 निर्माण कार्य के लिए 12106.50 लाख व जनपद पंचायत दुर्ग में 863 कार्य, जनपद पंचायत धमधा में 1313 कार्य, जनपद पंचायत पाटन 1224 कार्य स्वीकृत किया गया है।

कलेक्टर ऋचा प्रकाश चौधरी के निर्देशानुसार बैंक खाता का आधार सीडिंग कर समयबद्ध मजदूरी भुगतान किया जा रहा है, जिससे ग्रामीणों को आर्थिक सहायता मिल रही है।

ये खबर भी पढ़ें :  भिलाई स्टील प्लांट: पॉवर ज़ोन के अधिकारियों और कर्मचारियों को मिला शिरोमणि अवॉर्ड

जिले में प्रति दिन 50 हजार 657 मजदूर कार्य कर रहे हैं। सभी श्रमिकों का बैक खाता का आधार सीडिंग के आधार से भुगतान किया जा रहा है। ग्रामीणों को 76 करोड़ 62 लाख 73 हजार रूपए का मजदूरी भुगतान किया जा चुका है। मनरेगा में पारदर्शिता को बनाए रखने के लिए एनएमएमएस एप के माध्यम से श्रमिकों की उपस्थिति दर्ज की जाती है।

ये खबर भी पढ़ें :  Coal India News: नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड के 2 प्रोजेक्ट का उद्घाटन करेंगे पीएम मोदी

एनएमएमएस एप के माध्यम से सुबह-शाम मजदूरों की उपस्थिति विवरण एवं मजदूरों द्वारा कार्य करते हुए फोटोग्राफ्स अपलोड किया जाता है। उपस्थित विवरण के अनुसार ही मजदूरी भुगतान किया जाता है। जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी अश्वनी देवांगन ने बताया कि मनरेगा के तहत प्रोजेक्ट उन्नति में 100 दिवस कार्य कर चुके मजदूरों को आत्मनिर्भर होने के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है, ताकि वह श्रमिक कार्यो के अलावा अन्य रोजगार मूलक साधन में दक्ष प्राप्त कर सके। जिसके तहत लक्ष्य 217 के विरूद्ध 235 श्रमिकों को प्रशिक्षण दिया गया।

ये खबर भी पढ़ें :  बोकारो स्टील प्लांट में 1 मार्च से Facial Recognition Biometric Attendance System