Suchnaji

भिलाई स्टील प्लांट के HRD में अब मिलेगा बेहतरीन नाश्ता-खाना, इन कैंटीनों पर भी फोकस

भिलाई स्टील प्लांट के HRD में अब मिलेगा बेहतरीन नाश्ता-खाना, इन कैंटीनों पर भी फोकस
  • एचआरडी में मिलेगा उच्च क्वालिटी का नाश्ता खाना, मेशर्स मुस्कान कैटरर्स को मिला नया टेंडर l अप्रैल से चालू होगी नई व्यवस्था।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। बीएसपी वर्कर्स यूनियन (BSP Workers Union) हमेशा प्रबंधन से यह मांग करती रही है कि भिलाई इस्पात संयंत्र (Bhilai Steel plant) में कर्मचारियों को अच्छी क्वालिटी का नाश्ता, चाय-खाना मिल सके। प्रबंधन को इस दिशा में गंभीरता से ध्यान देने की जरूरत है।

AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें : बोकारो स्टील प्लांट में Facial Recognition Biometric Attendence System 1 मार्च से अनिवार्य, BAKS बोला-प्रबंधन सर्कुलर ले वापस

HRD में  उच्च क्वालिटी का नाश्ता खाना मिलेगा। मुस्कान कैटरर्स को नया टेंडर मिला है। l अप्रैल से नई व्यवस्था चालू होगी।

एचआरडी, बीएमडीसी में प्रशिक्षण लेने आने वाले कर्मचारियों की हमेशा शिकायत रही है कि यहां पर निम्न क्वालिटी का खाना दिया जाता है। खाने की गुणवत्ता को लेकर कई बार विवाद की स्थिती भी निर्मित हुई है, जिसकी शिकायत प्रबंधन के पास बीएसपी वर्कर्स यूनियन उठाती रही है।

ये खबर भी पढ़ें : Bhilai Steel Plant में काम किए HSLT श्रमिकों की अटकी पेंशन

बीएसपी वर्कर्स यूनियन का प्रतिनिधि मंडल कार्यकारी महासचिव शिव बहादुर सिंह के नेतृत्व में कैंटीन सेल के वरिष्ठ प्रबंधक जी विलियम से मिलकर कैंटीन की सुविधाओं के बारे में विस्तार से चर्चा किया।

यूनियन की ओर से कहा गया कि गर्मी को देखते हुए संयंत्र की सभी अधिकृत कैंटीनों में ठंडा आइटम जिसमें छाछ, लस्सी, आइसक्रीम आदि की व्यवस्था होनी चाहिए। यूनियन ने कहा कि भिलाई इस्पात संयंत्र में लगभग 50 कैंटीन अभी चालू है।

ये खबर भी पढ़ें : बोकारो स्टील प्लांट के 4 अधिकारी और 35 कर्मचारी रिटायर, विदाई समारोह में पहुंचे बच्चे भी

कुछ बड़े  विभागों में दो से तीन कैंटीन चल रही है, जो टपरा नुमा टीना के छत के नीचे हैं। जहां पर कर्मचारियों के बैठने, शुद्ध पानी एवं साफ सफाई की उचित व्यवस्था देखने को नहीं मिल रही है। इसलिए यूनियन ने सुझाव दिया कि उपयोगिता के हिसाब से कुछ कंटीनों को आपस में मर्ज कर एक अच्छी व्यवस्था प्रदान करते हुए बिल्डिंग में कैंटीन चलाई जाए, जहां पर कर्मचारियों के लिए सारी व्यवस्थाएं मिल सके।

ये खबर भी पढ़ें : भिलाई स्टील प्लांट के रिफ्रैक्टरी मैटेरियल्स प्लांट 3 ने 20 लाख टन प्रोडक्शन के मील का पत्थर किया पार

सेक्टर 9 कैंटीन के सप्लाई काउंटर बढ़ाने की मांग

बीएसपी वर्कर्स यूनियन के प्रतिनिधि मंडल द्वारा कुछ कैंटीनों का निरीक्षण किया और संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि सुधार तो दिख रहा है, लेकिन अभी और अधिक सुधार की गुंजाइश बनी हुई है।

यूनियन ने कैंटीन सेल प्रबंधन से सेक्टर 9 में संचालित कैंटीन के सप्लाई काउंटर को बढ़ाने की मांग की, क्योंकि वहां पर काउंटर में बहुत अधिक भीड़ हो जाती है।  बेस किचन में कर्मचारियों को सेकंड हाफ में नास्ता मिलना चाहिए।

ये खबर भी पढ़ें : Bhilai Steel Plant से 13 अधिकारी और 62 कर्मचारी रिटायर, CGM मुकेश गुप्ता पर कर्मियों ने लुटाया प्यार

सभी कैंटीन में एक स्टैंडर्ड अपनाया जाए

यूनियन ने यह भी मांग किया कि सभी कैंटीन में एक स्टैंडर्ड अपनाया जाना चाहिए, जिससे सभी जगह पर एकरूपता देखने को मिले। कर्मचारियों का ड्रेस कोड होना भी आवश्यक है।

ये खबर भी पढ़ें : Bhilai Steel Plant: PPC के पूर्व विभागाध्यक्ष GP ओझा का मंत्र, कर्मियों से अच्छा बर्ताव और पहले कुछ करके दिखाओ, कदम चूमेगी कामयाबी

यूनियन प्रतिनिधिमंडल की बातों को सुनते हुए जी विलियम (वरिष्ठ प्रबंधक) कैंटीन सेल ने बताया कि अधिकृत रूप से संचालित सभी कैंटीनों में व्यवस्था सुधारने के लगातार प्रयास किए जा रहे हैं।

प्रबंधन का यह प्रयास है कि कर्मचारियों को स्वस्थ, सुरक्षित, स्वच्छता एवं शुद्धता के साथ आरामदायक माहौल में चाय नाश्ता-खाना की व्यवस्था मिले सके। इसके लिए प्रयास किया जा रहा है।

ये खबर भी पढ़ें : Imported Coal की खपत में भारी गिरावट, कोल इंडिया में वृद्धि दर 10% से अधिक

बेस किचन में द्वितीय पाली में नाश्ता मिले

उन्होंने कहा कि यूनियन ने जो मांगे रखी है, विशेष कर गर्मी को देखते हुए प्रयास होगा कि सभी कैंटीन में ठंडा आइटम कर्मचारियों को मिल सके। उन्होंने कहा बेस किचन में द्वितीय पाली में नाश्ता कर्मचारियों को मिल सके, इस दिशा में भी प्रयास किया जा रहा है।

यूनियन प्रतिनिधिमंडल में कार्यकारी महासचिव शिव बहादुर सिंह, अतिरिक्त महासचिव टी डीलेश्वर राव, राकेश कुमार चंद्रा, संजय कौशल, विमल कांत पांडे, अमित बर्मन, प्रदीप सिंह, मनोज डडसेना आदि शामिल थे।

ये खबर भी पढ़ें : Imported Coal की खपत में भारी गिरावट, कोल इंडिया में वृद्धि दर 10% से अधिक