Suchnaji

भिलाई स्टील प्लांट के रिफ्रैक्टरी मैटेरियल्स प्लांट 3 ने 20 लाख टन प्रोडक्शन के मील का पत्थर किया पार

भिलाई स्टील प्लांट के रिफ्रैक्टरी मैटेरियल्स प्लांट 3 ने 20 लाख टन प्रोडक्शन के मील का पत्थर किया पार
  • आरएमपी 3 ने वर्ष 2023-24 में दर्ज पिछले सर्वश्रेष्ठ वार्षिक उत्पादन 4,96,302 टन को, वर्तमान वर्ष 2023-24 के पूरा होने से दो महीने पहले ही हासिल कर लिया है।  

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। सेल-भिलाई इस्पात संयंत्र (SAIL – Bhilai Steel Plant) के रिफ्रैक्टरी मैटेरियल्स प्लांट-3 (आरएमपी-3) ने 24 फरवरी 2024 को 20 लाख टन संचयी उत्पादन का मील का पत्थर पार कर लिया है। भिलाई इस्पात संयंत्र (Bhilai Steel Plant) में मॉडेक्स प्लान के तहत स्थापित एक नई और आधुनिक इकाई, आरएमपी-3 का प्राथमिक कार्य फ्लक्स का कैल्सीनेशन करना है।

AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें :  बोकारो स्टील प्लांट में 1 मार्च से Facial Recognition Biometric Attendance System

इस कैल्साइंड फ्लक्स को स्टील मेल्टिंग शॉप-3 (Steel Melting Shop – 3) को स्टील के शुद्धिकरण के लिए आपूर्ति की जाती है। इस्पात निर्माण की दैनिक मांग को पूरा करने के लिए उचित फ्लक्स जैसे लाइम और कैल्साइंड डोलोमाइट की उपलब्धता आवश्यक है।

ज्ञात हो कि हाल ही में 11 फरवरी 2024 को आरएमपी-3 ने 2145 टन का अपना उच्चतम दैनिक उत्पादन हासिल कर, 31 अक्टूबर 2023 को दर्ज 2105 टन के पिछले रिकॉर्ड को पार कर लिया था।

ये खबर भी पढ़ें :  भिलाई स्टील प्लांट: सेवा सदस्य कर्मचारी-अधिकारी ध्यान दें, 1 मार्च से 30 लाख का बीमा

उल्लेखनीय है कि आरएमपी 3 ने वर्ष 2023-24 में दर्ज पिछले सर्वश्रेष्ठ वार्षिक उत्पादन 4,96,302 टन को, वर्तमान वर्ष 2023-24 के पूरा होने से दो महीने पहले ही हासिल कर लिया है।

आरएमपी-3 पांच वर्टिकल पीएफआर प्रकार के गैस-चलित किल्नस और नवीनतम तकनीक से सुसज्जित है, जो इसे सबसे किफायती विकल्प बनाता है। आरएमपी-3 बिरादरी उत्पादन और संयंत्र की फ्लक्स की मांग को पूरा करने के लिए समर्पित हैं।

ये खबर भी पढ़ें :  Bhilai Steel Plant में डकैती, कर्मचारियों के गर्दन पर धारदार हथियार रखकर लूटपाट

उल्लेखनीय है कि जहां आरएमपी-3 ने 12 जून 2018 को अपने कमीषनिंग के बाद से 47 महीनों में 10 लाख टन संचयी उत्पादन का आंकड़ा पार किया, वहीं शॉप्स ने अगले 10 लाख टन उत्पादन का आंकड़ा केवल 21 महीने में हासिल कर लिया।

महाप्रबंधक प्रभारी (एलडीसीपी और आरएमपी-2 और 3) रतन मुखर्जी ने कहा कि यह उपलब्धियां संयंत्र की फ्लक्स की मांगों को पूरा करने के लिए आरएमपी-3 की प्रतिबद्धता को दर्शाती हैं। उन्होंने सभी सहयोगी विभागों को उनके सहयोग के लिए धन्यवाद दिया।

ये खबर भी पढ़ें :  Bhilai Steel Plant: सेक्टर 9 हॉस्पिटल में जहां भरा रहता था कभी पानी, वहीं खड़ी होगी गाड़ी, चकाचक पार्किंग