Suchnaji

SAIL Durgapur Steel Plant: ट्रैक्टर ने कर्मचारी को कुचला, मौके पर मौत, कर्मचारियों का हंगामा

SAIL Durgapur Steel Plant: ट्रैक्टर ने कर्मचारी को कुचला, मौके पर मौत, कर्मचारियों का हंगामा
  • मृतक के कर्मचारी की बेटी मेडिकल की पढ़ाई कर रही है।

सूचनाजी न्यूज, दुर्गापुर। स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड-सेल (Steel Authority of India Limited-SAIL) के दुर्गापुर स्टील प्लांट (Durgapur Steel Plant) से एक दुखद खबर आ रही है। टाउनशिप से प्लांट को जोड़ने वाले लिंक रोड पर हादसा में कर्मचारी की मौत हो गई है।

AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें : EPS 95 पेंशनर्स की भड़ास निकली सरकार, EPFO पर, पढ़िए डिटेल

एक ट्रैक्टर की चपेट में आने से काफी देर तक सड़क पर ही कर्मचारी तड़पता रहा। अस्पताल ले जाने से पहले ही कर्मचारी की मौत हो गई। इससे आक्रोशित डीएसपी के कर्मचारियों ने सड़क को जाम कर दिया है।

ये खबर भी पढ़ें : BSL आफिसर्स एसोसिएशन चुनाव: 16 ZR निर्विरोध निर्वाचित, अध्यक्ष पद पर AK सिंह, रवि भूषण और जनरल सेक्रेटरी के लिए अजय पांडेय-मंतोष में टक्कर

विरोध-प्रदर्शन किया जा रहा है। वहीं, आश्रित को नौकरी देने की लिखित मांग की जा रही है। इसको लेकर अस्पताल में भी हंगामा चल रहा है।
प्लांट गैरेज में कार्यरत करीब 57 वर्षीय संजय चक्रवर्ती सोमवार को ड्यूटी से घर जा रहे थे। लिंग रोड पर बेतरतीब सड़क किनारे खड़े वाहनों की वजह से रास्ता काफी सकरा हो गया था। इसी बीच एक ट्रैक्टर भी घुस गया। कर्मचारी ट्रैक्टर की चपेट में आ गया, जिससे उसकी मौत हो गई।

ये खबर भी पढ़ें : NMDC-एमईएआई के Iron Ore Processing पर राष्ट्रीय संगोष्ठी, जुटे एक्सपर्ट

बताया जा रहा है कि राणा प्रताप रोड स्थित आवास संख्या 9/9 में कर्मचारी का परिवार रहता है। मौत की खबर लगते ही घर में कोहराम मच गया। दुर्गापुर स्टील प्लांट के कर्मचारी भी आक्रोशित होकर सड़क पर उतर गए हैं।

कर्मचारियों का आरोप है कि सिविक पुलिस की ढिलाई की वजह से हादसा हुआ है। सड़क पर वाहनों को खड़ा करने से हादसा हुआ है। प्रबंधन के साथ सेफ्टी मीटिंग में यह मुद्दा उठाया जा चुका है। सीआइएसएफ जवानों की ड्यूटी लगाने की मांग की जा रही थी, लेकिन किसी ने नहीं सुना।

ये खबर भी पढ़ें : EPS 95 Pension: न्यूनतम पेंशन के संशोधन को लेकर उठी आवाज, ये है मन की बात

इसका फायदा उठाते हुए भारी मालवाहक के चालक अपने वाहन को यहीं खड़ा कर देते हैं। 10-20 ट्रक खड़ा करने से रास्ता जाम हो जाता है। भारी वाहन ड्यूटी इन/आउट टाइम में प्रतिबंधित होना चाहिए। मृतक के कर्मचारी की बेटी मेडिकल की पढ़ाई कर रही है।

ये खबर भी पढ़ें : Breaking News: CBI के हत्थे चढ़ा रिश्वतखोर कर्मचारी, अब BSP ने शॉप, इंफोर्समेंट, हाउसिंग सेक्शन के 17 कर्मचारियों का किया ट्रांसफर